Latest Entries »

बड़ा खुलासा : आइएसआइ चीफ असीम मुनीर ने रची थी पुलवामा आतंकी हमले की साजिश, डॉक्टर गौरव प्रधान का दावा राहुल-प्रियंका भी साजिश में शामिल!
===============================
abhinav February 17, 2019 मुख्य ख़बरें
पुलवामा हमले को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है. खबर के मुताबिक़ पुलवामा आतंकी हमले में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ शामिल थी. रिपोर्ट के मुताबिक़ आइएसआइ के नये चीफ लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर ने इस हमले की योजना बनायी, जिसे पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने अंजाम दिया.
एक अंग्रेजी अखबार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, अपनी नियुक्ति के समय से ही आइएसआइ चीफ मुनीर जम्मू-कश्मीर में किसी बड़ी घटना को अंजाम देना चाहते थे. इसके लिए वे किसी महत्वपूर्ण अवसर की तलाश में थे. वहीँ इस मामले में डाटा साइंटिस्ट डॉक्टर गौरव प्रधान ने भी चौंकाने वाला दावा किया है. उनके मुताबिक़ ये हमला राहुल व् प्रियंका के कहने पर आईएसआई ने करवाया है.

ગુજરાત સમાચાર: ક્યાંક વાંચેલું અને ઘણીવાર સાંભળેલું છે કે ૧૯૯૦ પહેલા કોઈ રાજકીય ઘટનામાં અમદાવાદ ખાતેનું ગુજરાત સમાચારનું હેડક્વાટર સળગાવામાં આવ્યું હતું. એ એક્જેટ ઘટના અને સમય કયો હતો એ બાબતે હું ઓનલાઇન શોધતો હતો તો એમાં આ વીકીપીડીયા જોયું તો એમાં ગુજરાત સમાચાર અંગે પહેલી જ લાઈન લખેલી છે કે , “ગુજરાત સમાચાર એ ગુજરાતી ભાષાનું રાષ્ટ્ર વિરોધી અખબાર છે…”

#गांधी #परिवार और #कांग्रेस के इशारों पर #पाकिस्तान ने करवाया #सीआरपीएफ जवानों पर #आतंकी #हमला? #डॉक्टर #गौरव #प्रधान का चौंकाने वाला #खुलासा!
कश्मीर में आज जैश-ए-मोहम्मद नाम के इस्लामिक संगठन ने फिदायीन हमला किया, जिसमे भारत के 42 जवान बलिदान हो गए. अब एक के बाद एक कई चौंकाने वाले दावे सामने आ रहे हैं. सबसे पहले तो कई जानकारों का दावा है कि इस आतंकी हमले में कश्मीर पुलिस की भी मिलीभगत है, क्युकी 350 किलो विस्फोटक आतंकियों तक पहुंच गया हो और पुलिस को कानोकान खबर तक नहीं हुई, लोकल खुफिया एजेंसियों को भी पता नहीं चला, ये भी नामुमकिन है.
इसके अलावा डाटा वैज्ञानिक गौरव प्रधान ने ट्वीट करके दावा किया है कि गांधी परिवार व् कांग्रेस के बड़े नेताओं को इस आतंकी हमले की जानकारी पहले से ही थी. गौरव प्रधान ने 7 फरवरी को ही ट्वीट करके जानकारी दी थी कि कांग्रेस के इशारे पर कश्मीर में आतंकी वारदात हो सकती है. ये देखिये उनका तबका ट्वीट.
#GauravPradhan 🇮🇳
इससे साफ जाहिर होता है के इस हमलेके पीछे खोंग्रेसका भी साथ होगा
बता दें कि इससे पहले कर्नल पुरोहित की रिहाई के बाद भी वैज्ञानिक गौरव प्रधान ने खुलासा किया था कि सोनिया गांधी के आतंकी सरगना हाफिज सईद के साथ कनेक्शन है.
उनके मुताबिक़ 2010 में सोनिया गाँधी और हाफिज सईद की मुलाकात होनी थी. पाकिस्तानी आतंकी हाफिज सईद इटालियन माता से 2010 में मिलना चाहता था, मगर इटालियन माता ने इंकार कर दिया क्योंकि इसमें काफी रिस्क था.
वैसे सोनिया गांधी की आतंकियों से हमदर्दी कोई नयी बात नहीं है, इससे पहले पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद भी आजमगढ़ की चुनावी रैली में कबूल कर चुके हैं कि बाटला हाउस एनकाउंटर में आतंकियों के मारे जाने की तस्वीरें देखकर सोनिया गांधी रो पड़ी थी.
दाऊद को बचाने के लिए अजित डोवाल को करवाया गिरफ्तार ?
डॉक्टर प्रधान ने ये भी खुलासा किया था कि 2005 में सोनिया-मनमोहन की सरकार के दौरान आज के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल को मुंबई में गिरफ्तार कर लिया गया था, क्योंकि उन्होंने पाकिस्तान मे बैठे दाऊद को मारने की पूरी योजना बना ली थी.
पाकिस्तान के कहने पर कर्नल पुरोहित को किया गिरफ्तार !
डॉक्टर गौरव प्रधान ने ये भी खुलासा किया था कि 26/11 के मुंबई आतंकी हमले से ठीक पहले ही कर्नल पुरोहित को गिरफ्तार किया गया, क्योंकि कर्नल पुरोहित सेना के जासूस थे और 26/11 आतंकी हमले के प्लान के बारे में जानते थे. डॉ गौरव ने ये भी बताया था कि कर्नल पुरोहित की पत्नी अपर्णा पुरोहित ने कहा था कि पाकिस्तान चाहता था कि कर्नल पुरोहित को गिरफ्तार कर लिया जाए और सोनिया-मनमोहन सरकार भी इसके बारे में विचार भी कर रही थी.
अपने खुफिया मिशन के दौरान कर्नल पुरोहित पाकिस्तान के कई संवेदनशील और नापाक राज जान गए थे, कर्नल पुरोहित का बड़ा जासूसी नेटवर्क भी पाकिस्तान में खुफिया जानकारियां जुटा रहा था. इसीलिए पाकिस्तान कर्नल पुरोहित की कस्टडी की मांग कर रहा था.
गौरव प्रधान ने आगे खुलासा किया कि पाकिस्तानी जनरल पाशा के कहने पर ही कर्नल पुरोहित को ठीक 26/11 आतंकी हमले से पहले गिरफ्तार कर लिया गया, क्योंकि पाकिस्तानियों को शक था कि कर्नल पुरोहित को इस आतंकी हमले की भनक लग चुकी थी और वो हमले को विफल कर सकते थे.
बता दें कि इन गंभीर आरोपों की जांच करनी बेहद जरूरी है. जबसे आतंकी हमला हुआ है तबसे गांधी परिवार समेत कांग्रेस के किसी भी बड़े नेता ने पाकिस्तान के खिलाफ एक शब्द तक नहीं कहा है, सिर्फ मोदी की बुराई किये जा रहे हैं.
ऐसे में गौरव प्रधान समेत कई जानकार ये दावे कर रहे हैं कि मोदी के खिलाफ देश में माहौल बनाने के लिए कांग्रेस ने ही पाकिस्तान के जरिये से आतंकी हमला करवा दिया है.
आप रणदीप सिंह सुरजेवाला के ट्वीट देखिये, एक भी बार इनके मुह से पाकिस्तान और आतंकियों की आलोचना नहीं निकलती, ये सिर्फ मोदी-मोदी कर रहे है, आज देखिये इनका तमाम ट्वीट.
ऐसा लग रहा है कि मानो कोंग्रेसी तैयार ही बैठे थे कि हमला हो और वो मोदी के नाम की गालियां निकालना शुरू कर दें. क्या राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए ही ये हमला करवाया गया है? सोशल मीडिया पर लोगों ने इसकी जांच की मांग करनी शुरू कर दी है.

सिक्युरिटी वापस लेलो जो अलगावादी कश्मीरी नेतालोग है और फारुख अब्दुल्लाह फेमिली ,महबूबा मुफ़्ती फेमिली और जो लोग देश के खिलाफ काश्मीरी लोगोको देश के खिलाफ भडका रहे है और सिक्युरिटी लेके फिरते है उन
सभी लोगोसे सरकारी सेवाएं हटा लेनी चाहिए ,और आम नागरिक की तरह
रहनेका आह्वान होना चाहिए सभी सरकारी सवल्ते बांध होनी चाहिए धारा
३७० , रद होनी चाहिए

કાળનો તખતો સમજવો

કાળનો તખતો સમજવો
================
ભાખે ભવિષ્ય જ્યોતિષીઓ ,કાળનો વૈભવ સમજાવા
રામ જેવા રામનો, વનવાસ ઋષિમુનીઓ રોકી શક્યા ?

આજીવિકાએ માત્ર મુર્ખ બનાવવાની કળા કેળવતા
રે ,મૂર્ખતા વિધાતાના નિયમનો ભંગ કેટલો વ્યાજબી ?

લક્ષાંગૃઘ્હમાં ખુદ બળતા યુંધીસ્થીર,ની જાણ પર તાળાં
ખરે વિધાતા તારા નિયમોનું પાલન ખુદ બળી ને કરતા

રાફડો ફાટ્યો, ચૌરે ચૌટે વિધાતાના લેખમાં મેખ મારવા
ને ખુદના ભાવીશની ચિંતામાં બીજાનાં ભવિષ્ય વાંચવાં

ઉગવી આથમવી દિશા બદલવા વ્યર્થ આંકવી ઈચ્છાઓ
થવાનું થાયછે સમયના સોગઠે વળતા પ્રહારે જંગ જીતવા
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ
રિવાઇઝ ઓન 15 / 2 /2019

શુદ્ધ ભક્તિ આરાધનાને અર્પણ
===============
કાળના કપાળ પર લે, વધેર્યું શ્રીફળ
બધા ઝાજવા મારી હયાતીને અર્પણ

અહીં લાચારીની શહેનશાહી તો જુઓ
મળ્યાં નહીંનાં બધાં રણ તને સમર્પણ

અનુયાયીઓ પૂજાપાઠ કરે સ્વાર્થ કાજે
બાધા ટેકનાં મુલ્યો સાધનાને સમર્પણ

ટીલા ટપકા કંઠમાળ દોરા ધાગા સૌ કરે
શુદ્ધ ભક્તિ છે મીરાં નરસિંહ ને સમર્પણ
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ
રિવાઇઝ ઓન 12 /2/2019

નીત નવા કલેવરનું લેણું દેણું
================
લગાવ લવનો એટલો જોરદાર ને ચોટદાર સજાવેલો સંસાર ઠેબે ચડાવે
ને સંસારી ઝંઝાવાતોના ઝુવાળમાં પ્રણય નાં પુષ્પોની માવજત કેટલી ?

જીવન ભર કોઠારો ભારાતાજ નથી પાવ શેરના બનેલા છે
હદયને ઉજાળે જખ્મોની મીઠાસ જે માપ તોલ વગરના છે

કાગળની કોથળીમાં બાંધેલા ઓસુનું શું ? કહેવાય અહીં
વાહ જ્યાં ખોલો, ફૂલડાં થઈ પથારાય ને સુગન્ધાય અહીં

આપણા ખાતે ઉધારેલું ઈશ્વરે પ્રણયનું જે જમાપાસું
અહીં ચૂકવાતું જ નથી આ નીત નવા કલેવરનું ઉધારું
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ ……રિવાઇઝ ઓન 7 /2/ 2019

बोलने लीखनेकी आज़ादिको कंटोल,और उसकी सीमा तय करनेका वक्त पक गया है
=========================
मीडिया एक ओपोजीसन पार्टी है जितने दल है उनमे एक मीडिया का इजाफा हुवा है जो एक गद्दार देश द्रोही और खोंग्रेस वामपंथी और इस्लाम का अजंट के रूपमे काम करता है और देश की शांति तोडनेका काम और लोगोकोको बढ्लानेका काम करता है साथ में वो ब्लेक मेकिंग करके पैसा भी कमाता है कई ये समाचार पत्र , दैनिक न्यूज़ ,या प्रिंट मीडिया ,एलोट्रोनिक मीडिया ब्लेकमेकरका काम करके उनका पेट पालते है और देश में आराजकता ,अन्धाधुंदी फैलाते है उनको देश के विकास के साथ या लोगोकी सुख शांतिके साथ के साथ कोई लेनादेना नहीं है
अगर उनको सीबीआई के घेरेमें रख के तलाशी लीजाय तो उनकी सॉरी
संपत्ति का ब्योरा लिया जायतो उनका मकसद खुल जाएगा और कई सारी
सम्पात्तियो का खुलासा भी हो जाय जो ब्लेक मार्कटियोंसे ,हवाला ख्जोरोसे
व्याज खोरोसे या आतंकवादियोंसे भी खतरनाक साबित हो शकते है ये
लोग देश के ईमान को देश की सुख शांति और विकासको और देश के
सलामतीको एक दमक तरह खा रहे है इन की स्वतंत्र ता ,इनका और इनका मकसद और उनकी निष्ठा पर सीमा लादने की और कानूनके
दायरेमें सख्त जरूरत है लिखने बोलने की आजादीके कई सख्त रूल
होंना जरुरी हो गया है उनकी सीमा तय करना ज रूरी हो गया है
===प्रहलादभाई प्रजापति ,,,,,,,,,,,,,, ६ / २ / २०१९

ममताजि ने हिंदुस्तानके सविधान को ललकारा है
==========================
आपकी जान नहीं लेनी है आप सीबीआई जाँच में सहयोग करे ताकि दूध का दूध और पानीका पानी हो जाय ये जान डसने का ड्रामा करके अपने पाप को छुपाना बांध कीजिए जान देने के बहाने लोगोकी जान लेना बंद कीजिए ममताजी आप की हर बाजी बे नकाब हो गई है आपकी मनसा हिन्दुस्तांको तोड़के अपना नया देश बनानेकी साजिस मत कीजिए जो साजिस जिन्हाने की थी और जो साजिस अब्दुल्लाह और टीडीपी कश्मीरमें क्र रहे है वैसे साजिस हर विरोधी पार्टियों की और खोंग्रेसकी भी है जिसकी
शुरिआत आप करना चाहती है देश को आउट देहके लोगोको सेवा ईमानदारी और जान देनेकी साजिस से लोगोको मालुम हो गया है आप एक
गद्दार ,देश द्रोही , साबित हो चुकी है आपने हिंदुस्तानके सविधान को ललकारा है आपने ह्न्दुस्तांकि लोकशाही और लोक तंत्रको ललकाराहै
==प्रहलादभाई प्रजापति। …५ /२/ २०१९

#ममता_का_खतरनाक_खेल

#ममता_का_खतरनाक_खेल
जो लोग ये समझते है की ममता बनर्जी कोई अर्ध शिक्षित, उज्जड, सनकी महिला है , वे गलत समझते है। ममता बनर्जी एक काफी पढ़ी लिखी, बेहद चालाक और अति महत्वाकांक्षी शातिर महिला है और वे हर काम सोच समझ कर करती है।
उनकी सत्ता की प्यास अपार है, और सत्ता के लिए कुछ भी कर सकती है. यह समझिये की वे अरविन्द केजरीवाल की बड़ी बहन है।
सत्ता के लिए उन्होंने बीजेपी से भी हाथ मिलाया था। अटल जी की सरकार में वे मंत्री थी। जब उन्हें लगा की NDA छोड़ने से ज्यादा फायदा है , तो उस फर्जी तहलका कांड का बहाना बना कर NDA छोड़ा, और जाते –जाते जॉर्ज फ़र्नाडिस जैसे ईमानदार और जुझारू नेता पर भी आरोप लगाने से नहीं चुकी। फिर कांग्रेस का साथ लिया, UPA में मंत्री रही , और जब देखा की अकेले कम्युनिस्टों से निपट सकती है, कांग्रेस को भी डंप कर दिया। स्पष्ट है की ममता का कोई सिधांत नहीं है, सिर्फ सत्ता प्राप्त करने के सिवा।
अब प्रश्न ये है की ममता सत्ता क्यों चाहती है? उनके पिछले वर्षो के शासन से ये स्पष्ट है की देश /समाज का भला करने के लिए तो बिलकुल नहीं।
चूँकि निसंतान है, तो परिवार के लिए भी नहीं? धन की लालची भी नहीं लगती (मायावती के सामान, जिनका पैसा कमाना ही ध्येय है), फिर सत्ता प्राप्ति का उद्देश्य क्या है?
दरअसल ममता का ध्येय बंगाल का CM, या देश का PM बनना भी नहीं है. उनका असली उद्देश्य एक #नए_देश को बनाना है , ठीक जिन्ना की तरह, और वो देश है महाबंगाल।
देश के विभाजन के पूर्व ही , बंगाल के मुस्लिम नेता जैसे सुहरावर्दी एक स्वतंत्र महाबंगाल बनाना चाहते थे क्यों की उसमे मुसलमान बहुमत में थे, और सत्ता उनके पास ही रहती। वे बंगाल का विभाजन नहीं चाहते थे।
इस योजना को जिन्ना का भी समर्थन था। गांधीजी जैसे बहुत से हिन्दू नेता भी हिन्दू –मुस्लिम एकता के नाम पर इस बात पर सहमत हो गए थे, लेकिन भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्री श्यामा प्रसाद मुखर्जी के प्रबल विरोध के कारन ये षड़यंत्र विफल हो गया था। लेकिन मुस्लिम नेताओ की एक मुस्लिम बहुल, मुस्लिम शासित, महाबंगाल की इक्षा बरक़रार रही।
#अब ममता इसको पूरा कर रही है. बांग्लादेश में मुस्लमान 85% है. पशिम बंगाल में 25%. योजना ये है , की बांग्लादेश से घुसपैठिये पश्चिम बंगाल में बसाये जाय, और मुस्लिम आबादी बड़ाई जाय। जिस दिन मुस्लिम आबादी 51% हो जाय, उस दिन पशिम बंगाल को मुस्लिम राष्ट्र घोषित कर उसका विलय बांग्लादेश में कर दिया जाय।
वैसे भी ममता सिर्फ नाम की हिन्दू है। मैंने अब तक उनकी दुर्गा पूजा मनाते कोई फोटो नहीं देखी, लेकिन इबादत करते , इफ्तार करते कई फोटो देखी है।
ममता ने MA भी इस्लामिक हिस्ट्री में किया है। इस्लाम से उनका लगाव पुराना है। मुस्लिम में वे लोकप्रिय भी है। मुस्लमान बन जाने के बाद एक मुस्लिम बहुल महाबंगाल का PM बनने से उन्हें कौन रोक सकता है।
चुकी इस्लाम में कम्युनिज्म बैन है (कम्युनिस्ट ईस्वर को नहीं मानते और इस्लामिक देश में ये कहना की ईस्वर नहीं है, संगीन जुर्म है जिसकी सजा मौत है), इसलिए ममता को वहा कोई मुकाबला देने वाला भी नहीं होगा यही उनका प्लान।
आज जिस प्रकार ममता केंद्र से सीधी टक्कर ले रही है और विघटनकारी ताकतों को एक कर रही है तथा संविधान की धज्जियां उड़ा रही है उससे साफ दिखाई देता है कि वह अपने उद्देश्य में सफल होती दिखाई दे रही है।
कोई आश्चर्य नहीं होगा यदि ममता सुप्रीम कोर्ट का कोई निर्णय या हाईकोर्ट का निर्णय मानने से मना कर दें।
अब केवल एक रास्ता है कि भारत की आज़ादी की पहली मिसाल जिस प्रकार बंगाल से जगी थी उसी प्रकार हिन्दू विद्रोह कर दे। भयानक दौर से हम सब गुजर रहे है।
अभी अमेरिका से भी एक रिपोर्ट आई थी 2019 के चुनाव से पहले कोई बड़ा काण्ड हो सकता है इसलिये अनुरोध है कि सभी हिंदु एकता से रहें ।
हिन्दुओ के लिये विपत्ति काल है।
जय श्रीराम