|| नेहरु और अंग्रेजो की दोस्ती ||.

Anurag Mishra Mainpuri's photo.

|| नेहरु और अंग्रेजो की दोस्ती ||
—————————————

भारत के सभी प्रमुख पदों पर अंग्रेजों को बैठाना चाहते थे नेहरू।
नेहरू ने अंग्रेज़ लार्ड माउंटबेटन को स्वतंत्र भारत का गवर्नर जनरल बना दिया जबकि पाकिस्तान में जिन्ना ने खुद गवर्नर जनरल का पभर ग्रहण किया।
अंग्रेज़ माउंटबेटन को स्वतंत्र भारत का पहला गवर्नर जनरल बनाने के बाद भारतीय सेनाध्यक्ष भी किसी अंग्रेज़ को बनाना चाहते थे जवाहरलाल नेहरू
यह भी नेहरू की अंग्रेज़परस्त मानसिकता ही थी कि स्वाधीनता के बाद पाकिस्तान में जिन्ना ने खुद गवर्नर जनरल का पदभार ग्रहण किया, जबकि नेहरू ने अंग्रेज़ लार्ड माउंटबेटन को भारत का गवर्नर जनरल बना दिया। वे तो सेनाध्यक्ष भी किसी विदेशी को ही बनाना चाहते थे; पर जनरल नाथूसिंह राठौड़ के प्रखर विरोध के कारण उन्हें जनरल करिअप्पा को सेनाध्यक्ष बनाना पड़ा।

जब रक्षामंत्री की बोलती बंद हुई

नेहरू किसी अंग्रेज़ को सेनाध्यक्ष बनाना चाहते थे। उनके निर्देश पर रक्षामंत्री ने सेना के जनरलों की बैठक बुलाई। उसमें डूंगरपुर (राजस्थान) निवासी जनरल नाथूसिंह राठौड़ भी थे। वे बहुत स्पष्टवादी व्यक्ति थे। उन्होंने रक्षामंत्री से पूछा – आप किसी विदेशी को सेनाध्यक्ष बनाना क्यों चाहते हैं ?

– हमारे किसी जनरल को इतनी बड़ी सेना की कमान संभालने का प्रत्यक्ष अनुभव नहीं है।

– फिर तो प्रधानमंत्री भी किसी विदेशी को ही बनाना चाहिए, क्योंकि हमारे किसी नेता को इतने बड़े देश का शासन चलाने का प्रत्यक्ष अनुभव नहीं है।

रक्षामंत्री की बोलती बंद हो गयी। कुछ देर बाद उन्होंने पूछा, ‘‘क्या आप सेना की बागडोर संभाल सकते हैं ?’’ जनरल नाथूसिंह राठौड़ ने कहा, ‘‘जनरल करियप्पा हम सबमें वरिष्ठ और योग्य व्यक्ति हैं। उन्हें ही यह जिम्मेदारी देनी चाहिए।’’ वहां उपस्थित अन्य जनरल भी इसी मत के थे। अतः नेहरू को मजबूर होकर जनरल करियप्पा को सेनाध्यक्ष बनाना पड़ा।

नेहरू और एडविना माउंटबेटन में आपत्तिजनक सम्बन्ध थे उस वक्त इसके चर्चे आम थे। 1948 में जब नेहरू युद्धविराम कर कश्मीर की बात संयुक्त राष्ट्र संघ में ले गये,1948 में प्रधानमंत्री नेहरू द्वारा अंग्रेज़ माउंटबेटन की ही सलाह पर विजयी भारतीय सेना के बढ़ते कदमों को रोककर कश्मीर विषय को संयुक्त राष्ट्र संघ में ले गए थे तब भी जनरल नाथूसिंह राठौड़ ने बेहद प्रखर विरोध किया था।

शेयर करें और भारत की जनता को जागरूक बनाने में योगदान दे ।
जय महाकाल
26.05.2015

Like · Comment ·

Advertisements