अल्प्संखयक हुए मोदी के मुरीद.

मोदी सरकार ‘टोपी’ की जगह अल्पसंख्यकों को ‘रोटी’ दे रही है: नजमा हेपतुल्ला

केंद्रीय मंत्री नजमा हेपतुल्ला ने रविवार को दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भले ही टोपी नहीं पहनते हों और इफ्तार में नहीं जाते हों लेकिन पूर्व की दूसरी सरकारों की अपेक्षा उनकी सरकार अल्पसंख्यक समुदायों को रोजी-रोटी प्रदान करने के लिए ‘गंभीरता’ से काम कर रही है।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘अतीत में हर कोई टोपी पहन चुका है लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार पहली ऐसी सरकार है जो टोपी की जगह अल्पसंख्यक समुदाय को रोटी मुहैया कराने पर गंभीरता से काम कर रही है।’ अल्पसंख्यक मामलों की केंद्रीय मंत्री ने चुनावी राज्य बिहार में चुनावों में अल्पसंख्यक मुसलमानों को लुभाने के मकसद से ‘नई मंजिल’ कार्यक्रम की शुरुआत की।

हाल में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा दी गयी इफ्तार दावत में प्रधानमंत्री के शिरकत नहीं करने को उन्होंने खास तवज्जो नहीं दिया। उन्होंने कहा, ‘असल में धनी लोगों द्वारा दी जाने वाली इफ्तार दावतें अमूमन फोटो खिंचाने का कार्यक्रम होती हैं। क्या कोई भी इफ्तार दावतों का आयोजन गरीबों की बस्ती में करते हैं।’

Advertisements