पटेल अनामत अोदोलनमे खोंग्रेस नहेरु वंशज और सेक्युलरोका छुपा दोरी संचार.

पटेल अनामत अोदोलनमे खोंग्रेस नहेरु वंशज और सेक्युलरोका  छुपा दोरी संचार
====================================================
भारत वासी ,गुजरातके निवासी और विदेश में रहनेवाले लोग समजा जाय की इस अॉडिलन के पीछे  ताकते ,और नेरुविन खोंग्रेसी ,सेकुलरो का छुपा दोरी
संचार , और परदेसकी पीछे वो लोग मोदीकी विकास गाथा को रोकना चाहते है ,जो विकाससे देश का भला होनेवाला है उसको ये लोग देख नहीं शक्ति और उनकी लूट खोरी बांध हो जानेका दर सत्ता रहा है , इसीलिए ये लोग देश की एकता को तोड़नेमे लगे है ,. ६० बरसो से विदेशी लोग उनके पिठ्ठुओको उनके
इशारे पे देश ओ नचाते आये है और लुटाते आये है ,ऐ वोही विदेसही ताकते है जिन्होंने आज़्ज़ादिके वक्त उनका एक पिठ्ठू के हाथमे द्रेष की डोर थमादि थी और उसीके जरिये देश को लुटे रहे और लुटवाते रहे ,ये ाोदोलन कारिओ को समज लेना चाहिए की उनके और अपने देश के बच्चे को ये लोग सुखी देखना  चाहते ,उनको तो उनके [वाइसरॉय ] परोक्ष  यहाँ रखे है ,जो कभी भी देश का भला नहीं सोचते ,इतियास गवा ही , जब जब देश पर आफ्ते आइए है तबतब
इनके लोग जो सत्तामे रहे है वो सभी विदेशो में घूमने ही चले गए है और ऐसो आराम करते आये है। ये बात विदेशोमे रहने वाले भारतवासी ओ को आगे
आके उनके रिश्ते दारोंको समजाना चाहिए और ये अोदोलन के मार्गसे दूर हटाना चाहिए ,अगर जो ये नहीं किया तो मोदीजीकी ताकत को  इससे ,असर पडेगा   और जो ६० सालोसे सत्तामे बैठे थे वो फिर से उनकी मनमानी करेंगे ,आज ये वक्त ही नहीं हे ऐसे आदोलनोको करनेका ,ये लोग वोहो लोगोका
फिरसे शिकार होने चले है ,जिन लोगोने इस देश को जाती ,धर्म ,उच्च नीच ,के समाजको अनेक टुकडोमे बाटनेका काम किया है वोक्ही लोग फिरसे  देश
की विकास गाथा को रोकनेमे लगे है ,इसी लोग है जिन्होंने धर्म के नामसे दंगे करवाये है ,ये इस्लोग है जिन्होंने देश को जातिवाद का ज़हर पिला या है
ये यही लोग है जिन्होंने काश्मीरका मसला अभी तक सुलझता रखा है ये इन्ही लोग है जिन्होंने देश को कलायन कारी योजनाए लगाके १०० मेसे २० %
ही देश की जनताको दिया है और ८० % वो और उनके लोग ही लूट गए है और देश को मीठा ज़हर पिलाया  है , और गरीब को ज्याद गरीब ही बनाया  यही
और सेवाके नामसे देश को लूटा है ,और पूंजी विदेशोमे जमा की है ,देश वासी और विदेशो में रहने वाले हर भारत वासी को ये समझने का वक्त आ गया है
===प्रहलादभाई प्रजापति

Advertisements