Source: शांत गुजरात में आग लगा, अब राजनीति की रोटियां सेकने की तैयारी कर रहे हैं केजरीवाल, पाकिस्तान, नितीश, लालू और कॉंग्रेस से मिलकर

शांत गुजरात में आग लगा, अब राजनीति की रोटियां सेकने की तैयारी कर रहे हैं केजरीवाल, पाकिस्तान, नितीश, लालू और कॉंग्रेस से मिलकर

15 वर्ष से गुजरात को अशांत बनाने की लाख कोशिश की कॉंग्रेस ने , पर दाल गली नहीं।

मोदी को मौत का सौदागर कह कर पूरे देश में बदनाम किया सोनिया ने , किन्तु पटेल समाज ने कमल पर आंच नहीं आने दी। गुजरात में कमल खिलता रहा और मोदी विरोधी कुढ़ते रहे। गुजरातियों के सम्बल से मोदी आगे बढ़ते रहे।

गुजरात के विकास का मॉडल दिखा कर पूरे देश से वोट मांगे। भारत की जनता ने गुजरात के मॉडल को मान्यता दे कर नरेन्द्र मोदी को भारत का प्रधानमंत्री बना दिया। प्रधानमंत्री बनते ही नरेन्द्र मोदी ने दुनियां में घूम-धूम कर भारत की प्रतिष्ठा बढ़ार्इ। गुजरातियों का सर ऊंचा उठाया। पटेल समुदाय अपने नेता के करिश्में से गदगद हो गया।

भारत की राजनीति में उभरे एक षड़यंत्रकारी नेता ने पटेल समुदाय को मोहरा बना, मोदी की हैकड़ी खत्म करने की ठानी। मोदी के मजबूत किले में कील ठोकने की रणनीति बनार्इ। विदेश में बैठे दाऊद ने शह दे कर कहा, धन मैं दूंगा, आग तुम लगवाओं। आज की तारीख में मोदी मेरा दुश्मन नम्बर एक है। दुनियां भर में फैले मेरे कारोबोर को घ्वस्त करने चला था। मेरे आदमी को फांसी पर चढ़ा कर भी शांत नहीं हुआ, अब मुझे पकड़ने के लिए ताल ठोक रहा है। मेरे दोस्त, अब तुम्हें ही उसे मेरी ताकत का अहसास करवाना है।

गुजरात में आग लगवा दी हुजूर। 10 आदमियों को मरवा कर पटेलों को भाजपा सरकार का दुश्मन बना दिया है। उस लड़के से भारी भीड़ के बीच कहलवा दिया- अब 2017 में गुजरात में कमल नहीं खिलेगा।

सब का साथ सबका विकास का नारा देने वाले से भारत की राजनीतिक पार्टियां गुजरात जीत नहीं सकती थी, पर हमने पटेलों से नारा दिलवा दिया-सिर्फ हमारा विकास करों, अन्यथा सत्ता से महफूज हो जाओगे। 2017 में हम हाथ को साथ लें, गुजरात जायेंगे और सारे मुर्झाये कमल को अपने झाड़ू से बुहार देंगे।

हाथ के पास सत्ता आते ही आपके गुर्गों के दिन फिर जायेंगे। वे रोज दंगे करवायेंगे। 2019 तक गुजरात पहले जैसा अशांत, अराजक गुजरात बन जायेगा। मोदी का गुजरात मॉडल ध्वस्त हो जायेगा। फिर कम्बखत किस मुंह से अपने आपको गुजराती कह कर फख्र करेगा और पूरे देश की जनता के सामने छाती चौड़ी कर वोट मांगेगा।

क्या आपने ये बात गौर की है की जब – जब कांग्रेस सत्ता से बहार हुई तब तब आरक्षण का जिन बोतल से बहार निकला, चाहे VP Singh हो या हार्दिक पटेल ?

शर्म है वो पटेल समाज पर जो एक समृद्ध एवं समझदार वर्ग है लेकिन आज केजरी, दाऊद और कॉंग्रेस के बहकावे मे आ गया है और सरदार बल्लभ भाई पटेल के नाम को कलंकित कर रहा है।

Advertisements