हिंदुस्तानकी न्याय पालिकाको सुधारनेका एक सुजाव
=================================
सर मेरा एक सुजाव है हिंदुस्तान की ज्यूडिसियरी को बचानेका और सुधारनेका ,देश के हितमे और आम जनताके हितमे। , अगर वकिलाट करनेका लायसन्स प्रथा रद किया जाय ,और जो सक्षम है ,कानुनको जानते है ,जेसन कानून पढ़ा है वो खुद ही केस लड़ शकता है ,यानी वकीलोंका और जजवकी कानूनकी घेरा बंधी से मुक्त किया जाय सनद प्रथा बांध की जाय
जजोki नयुक्तिमे बदलाव कमिया जाय ,किसी एक जज का कोई ब्लड रिलेशन वालेको इस न्याय पालिकामे नियुक्तिसे दूर किया जाय उस पर पाबंधी लगाईं जाय। और किसी भी केसकी समय
मर्यादा नक्की जाय वकीलोंके डेट देना बांध किया जाय जब उसने कोई केस लिया है तो उसको बहाने बाजी करके डेट लेने से रोका जाय उसके लिए कड़क कानूनी प्रावधान किया जाय सनद रद करने तक और उसके लिए एक स्पेशल अलग कोर्ट नियुक्त की जाय ,जिसमे वकील एक
असील की तरह पेश आये ,वो अपना केस खुद नहीं लड़ शके समाजक कोई भी कानूनका जानने वाला उसमे हिस्शा ले शके और अपराधी को सजा करवाये
===प्रहलादभाई प्रजापति
.

Advertisements