कश्मीर पकिस्तान को देने को तैयार हो गए थे भारत के प्रधानमंत्री मगर एक शर्त के साथ
” DESH BHAKT ”
फेसबुक पेज लाइक करें
=====================
बात वर्ष 1990 के मालदीव मे सार्क सम्मलेन की है। २१ नवम्बर से २३ नवम्बर के बीच चले इस सम्मलेन मे पकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भी भाग लिया था। भारत का प्रतिनिधित्व उस समय भारत के प्रधानमन्त्री चद्रशेखर कर रहे थे। नवाज शरीफ तब पहली बार पकिस्तान के प्रधानमन्त्री बने थे और चंद्रशेखर पहली बार भारत के प्रधानमंत्री के रूप में चुने गए थे। कश्मीर तब आतंकवाद की आग मे झुलस रहा था और लाखों कश्मीरी पंडितों को कश्मीर से खदेड़ दिया गया था। यहाँ तक की आतंकवादियों ने तब के गृहमंत्री मुफ़्ती मोहम्मद सईद की बेटी का अपहरण भी कर लिया था।
अपनी आदत से मजबूर पकिस्तान नें उस सम्मलेन मे भी कश्मीर का राग अलापना शुरू कर दिया। उनका कहना था की कश्मीर पकिस्तान के गले की नस है और कश्मीर के बिना पकिस्तान अधूरा है इसीलिए जबतक वो कश्मीर को हिंदुस्तान से छीन नहीं लेंगे वो चुप नहीं बैठेंगे।
इस सम्मलेन मे भारत के अलावा भारत के कई पडोसी देशों के प्रधानमन्त्री भी उपस्थित थे। नवाज शरीफ नें भाषण देने के बाद भारत के प्रधानमन्त्री से मिलने की इच्छा की और मिलने पहुच गए। भारत के प्रधानमन्त्री चद्रशेखर नें कश्मीर का जिक्र करते हुए नवाज शरीफ से पूछा की आप की बड़ी इच्छा है की कश्मीर को कैसे भारत से छीन लिया जाये क्युकि वहा पे आपके सगे संबंधी रहते हैं और कश्मीर के बिना पकिस्तान अधूरा है।
प्रधानमंत्री चंद्रशेखर ने कहा कि चलिए ठीक है हम आपको कश्मीर देने के लिए तैयार हैं। उसके बाद उन्होंने मुस्कराते हुए कहा कि मगर एक शर्त है। शर्त ये है की कश्मीर के साथ आपको भारत मे रह रहे सभी 15 करोड़ मुसलमानों को भी अपने देश में लेना पड़ेगा क्युकि क्या पता कल को उनके बिना भी आपका मन ना लगे।
इतना सुनना था की नवाज शरीफ की बोलती बंद हो गयी, उनके मुह से अल्फाज ही नहीं निकल रहे थे की क्या कहें। सकपकाते हुए उन्होंने कहा की अरे मेरा कहने का वो मतलब नहीं था। इसके बाद वो चुपचाप पतली गली से निकल लिए और उस सम्मेलन के दौरान उन्होंने दोबारा कश्मीर मुद्दे पर कोई बात ही नहीं की।
अब आपकी बारी
प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के इस जवाब के बारे मे अपने विचार हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं। कमेंट बॉक्स इस पोस्ट के अंत मे दिया गया है।
इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज ”DESH BHAKT ”’  लाइक करें।
Advertisements