फेसबुक मीडिया उप्र चुनाव की रिपोर्टिंग देखिए, लगता है पत्रकारों ने सुपारी ले रखी हो!

उत्तरप्रदेश चुनाव की रिपोर्टिंग देखिए! साफ-साफ पता चलता है कि पत्रकारों ने सुपारी ले रखी है! एनडीटीवी का रवीश कुमार हो, आजतक का पुणय प्रसून वाजपेयी हों, क्विंट का माइक लिए घूम रही बरखा दत्त हो, मुंह से थूक उड़ाता इंडिया टुडे का राजदीप सरदेसाई हो, इंडिया टीवी के रजत शर्मा हों या कोई और, कोई भी निष्पक्ष नहीं दिख रहा है!

ऐसा लगता है जैसे सपा-कांग्रेस-बसपा की जगह ये लोग चुनाव लड़ रहे हैं! इन सबकी विश्वसनीयता वैसे भी सोशल मीडिया ने समाप्त कर दी है, अब इन्हें पत्रकारिता की आड़ लेना छोड़ देना चाहिए! इन्हें घोषित कर देना चाहिए कि हम फलां पार्टी के ‘सुपारी पत्रकार’ हैं! आप यदि फलां पार्टी के कार्यकर्ता हैं तो सिर्फ हमारा चैनल देखिए!

Advertisements