जपान लगा चूका है इस्लाम पर सख्त पाबन्दीयां,जिसकी वजह से वहाँ कभी दंगे या आतंकी घटनाये नहीं होती

जपान में ऐसे गजब के कानून बने है जिसकी वजह से वहाँ कभी आतंकी हमले नहीं होते है…..

दुनिया भर में आतंकी हमले होते हैं यहाँ तक की अमेरिका भी आतंकवाद से नहीं बच पाया,लेकिन आपने यह कभी नहीं सुना होगा जापान में कोई आतंकी हमला हुआ है ,इसके पीछे एक वजह है ,जापान के कानून जो की बहुत ही ज्यादा सख्त हैं ,और ऐसे सख्त कानून दुनिया के किसी भी देश में नहीं है, जापान इस्लाम से भी काफी सख्ती से निपट रहा है ,और इसके विरुध काफी मजबूत कानून भी जपान में बने हुए हैं ।

जापान में इस्लाम और मुस्लिम के खिलाफ कानून :-

* मुस्लिमो को नागरिकता पर पाबंदी.
 * सामूहिक जलसे पर पाबंदी .
* स्थाई आवास पर पाबंदी .
* किसी भी इस्लामिक भाषा पर पाबंदी .
* सार्वजनिक जगह पर इस्लामिक वेशभूषा पर पावंदी .
* अरबी भाषा ,कुरान खरीदने पर रोक .
* जापानी नियम कानून मानने की पाबंदी ।
* कट्टरपंथियों को सजा-ए-मौत तक का कानून .
* मकान किराए पर देने से पहले सरकार से इजाजत की पाबन्दी।

जापान किसी भी मुस्लिमों को नागरिकता नहीं देता है, जापान इस्लामिक आतंकवाद को लेकर काफी रिजर्व नेचर विश्वास रखता है,  और इसकी वह किसी भी मुस्लिम को अपने देश की नागरिकता को देने के पक्ष में नहीं है ,जापान में कई सत्तायें बदलती रही है लेकिन किसी ने भी इस कानून का विरोध नहीं किया ।

अगला कानून जापानियों के लिए ही है जो भारत में कभी संभव हो ही नहीं सकता ,लेकिन जापान में बेधड़क चल रहा है ,क्योंकी जापान में किसी भी व्यक्ति को अपना मत बदलने की आजादी नहीं है ,हालांकि वहां के लोग इतने ज्यादा धार्मिक नहीं है, इसलिए उंहें कोई फर्क नहीं पड़ता है ।

लेकिन वेटीकन सिटी के पॉप तक ने इस बात का अफसोस जताया कि वह अपने इसाई धर्म का प्रचार-प्रसार जापान में नहीं कर पाएंगे, इसी वजह से इस्लाम भी जापान में अब तक ढंग से प्रवेश नहीं कर पाया है, और इसी कारण से उसकी कट्टर पंथी विचारधारा भी आज जापान की सीमाओं से काफी बहार है । यह जानकर आप कह सकते हैं कि इन कारणों की वजह से ही जपान  और उसकी राष्ट्रीयता आज भी सुरक्षित है ,और हमेशा रहेगी।

 लेकिन क्या भारत में बिल्कुल ऐसा ना सही लेकिन इस तरह से ही किसी तरह के कानून बना पाना संभव है ?? जिससे कट्टरपंथियों पर लगाम लग सके ,आप अपनी राय कमेंट बॉक्स में हमें दे सकते हैं।

Advertisements