श्रीनगर के बैंकों से आया चोंका-देने वाला DATA,पूरा देश हैरान-परेशान!!!
इस खबर को पूरा पढने के बाद आप ये सोचने पर मजबूर हो जाएँगे
==================================
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के काले धन के खिलाफ छिड़े महासंग्राम से सिर्फ भ्रष्ट लोग ही परेशान नहीं हैं! आतंकवादी और उनके आकाओं की नींद भी हराम हो रखी है! नकली करेंसी का मामला कितना गंभीर था, इसका शायद देश एक करोड़ों लोगों और यहाँ तक की पत्रकारों, विशेषज्ञों इत्यादि को भी कोई अंदाजा नहीं था!
अब श्रीनगर के बैंको से मिलने वाले data के बारे में जो कहा जा रहा है, वह हैरान-परेशान कर देना वाला है! बताया जा रहा है कि वहां के बैंको में जमा होने वाली रकम में करीब 43% रकम नकली थी!
ये अपने आप में चौंका देने वाली figure है!इसका मतलब हुआ की पाकिस्तान ने, कश्मीर घाटी की इकॉनमी को लगभग नष्ट कर दिया था! नकली करेंसी का फैलाव इस कदर तक बढ़ गया होगा, किसी ने सोचा तक नहीं होगा
लेकिन चलिए मोदी जी की वजह से इस कार्य पर भी प्रतिबन्ध लग ही गया!एक बात और भी है की नोट बंदी के बाद से देश में एक भी आतंकी गतिविधि या कश्मीर की हिंसा की खबर नहीं आई है! मतलब मोदी निति की वजह से ALL IS WELL हो गया !
अगले पेज पर देखें “और ज्यादा चौंका देने वाले तथ्य” और जाने अब कैसे मोदी नीति ने मचाया श्रीनगर में धमाल और निकल के आया वहां के नेताओं का असली चेहरा
अब चूँकि 500 और 1000 की पुराणी करेंसी बैन हो चुकी है, हम चैन की सांस जरूर ले सकते हैं लेकिन गौर कीजिये की पाकिस्तान अपनी चाल में कहाँ तक कामयाब हो चूका था! गौर करने वाली बात यह भी है कि घाटी में नकली करेंसी न जाने कितने अधिक समय से चल रही थी!
43% तक नकली नोट चला देना, ये काम एक दो साल का नहीं है! ये काम कम से कम एक दशक में हुआ होगा! और इस काम में अलगाववादियों ने भरपूर मदद की होगी, इससे भी इनकार नहीं किया जा सकता!अब सोचने वाली बात ये भी है की अब जब कश्मीर का 43% पैसा बेकार हो चूका है
वहां के पत्थरबाजों को बांटा हुआ पैसा भी पूरी तरह से बेकार हो गया होगा!मोदी जी ने पहले पेलेट गन चलाई फिर BSF को कश्मीर में खुली छुट दे दी और अब नोट बंदी करके सबको सड़क पर ले आए! मतलब सभी गद्दारों के बूरे दिन एक साथ आ गए हैं!
काले धन का सफाया तो अलग मुद्दा है, उससे होने वाले देश को लाभ को भी एक तरफ कर दें, तो केवल और केवल, कश्मीर में नकली करेंसी को खत्म करने के लिए भी यदि मोदी जी ऐसा कदम उठाते, तो उसे शत-प्रतिशत सही माना जाता!साथ ही साथ इससे देश को जो फायदा होता वो भी बहुत फायेदेमंद होता!
जब से देश में नोटबंदी हुई है तब से औपोजीशन और बाकी पार्टियों के नेताओं के सोशल मीडिया पर बहुत से ट्वीट्स, वीडीयोज़, और बयान सामने आये, जिनका निचोड़ यही निकला कि इन सभी को लगता है कि मोदी के इस फैसले से कुछ नहीं होने वाला है और वो जनता को बेवकूफ बना रहे हैं!
इन सभी की इस बौखलाहट के पीछे दो वजह हैं पहली तो काले धन की समस्या पर विराम लग गया है, और दूसरा चुनाव, जो सर पर हैं! सभी जानते हैं काले धन का चुनाव में बहुत प्रयोग होता पर 500/1000 के नोट बैन होने के बाद ये पैसा महज कागज़ रह गया है l अब ये नेता अपनी वोट की रोटियाँ कैसे सकेंगे, यही चिंता इन्हें सता रही है!
ये सब इतना नहीं समझ पाएं हैं कि इस समस्या से एक नहीं बल्कि अनेक समस्याओं पर काबू पाया जा सकेगा ! और तो और सेना के लिए कुछ करने का मौका….
Advertisements