जिन्नाह ने नहीं बल्कि मोतीलाल नेहरू ने मुस्लिमो के अलग देश की बात कही थी, और भारत के टुकड़े हुए
==========================
आप देशवासियों के लिये अपना पूरा जीवन लगा देने वाले भाई राजीव दीक्षित जी #Youtube Channel से जुड़े ! Subscribe Now
आज भारत को आज़ाद हुए पुरे 67 साल हो चुके है और इन सालो में ज्यादातर समय केवल एक ही वंश ने शासन किया है और वह था भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु का वंश या परिवार।  आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मोतीलाल नेहरु जोकि जवाहर लाल नेहरु के पिता थे
वे 1857 की क्रांति से पहले मुगल साम्राज्य के समय में एक शहर में कोतवाल हुआ करते थे और 1857 की क्रांति के बाद अंग्रेजो ने भारत पर पूरी तरह से कब्जा कर लिया था और मोतीलाल हमेशा अंग्रेज़ों के बड़े पिट्ठु बने रहे थे । वे क्रांतिकारियों से घृणा करते थे ।
और फिर उन्होंने इस सदी का सबसे ख़तरनाक षड्यंत्र रचा क्यूँकि जिनकी वो ग़ुलामी करते थे अर्थात अंग्रेज़ वो भी तो यही चाहते थे । इस बारे में  देखें और पढ़ें नीचे दी गयी ये रिपोर्ट  !!
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मोतीलाल ने ही उस समय 1928 में मुस्लिमो को अलग से और ज्यादा अधिकार दिलाने की बात कही थी, यहाँ तक की मुस्लिमो के लिए अलग से राष्ट्र तक का भी जिक्र किया था, जिसके बाद एक बार फिर मुस्लिमों में कट्टरपंथी इस्लाम की भावना जाग गयी थी,
ये भी पढ़े :   Karela – कैंसर की कोशिकाओं को मारता है, मधुमेह को रोकने, और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ा देता है!
मुस्लिम लीग को भारत को तोड़ने का आईडिया मोतीलाल नेहरू ने दिया
उन्हें अहसास हो गया था कि अगर वे ज़्यादा इस्लामिक गतिविधियाँ करेंगे और ख़ुद को हिन्दुओं से अलग दिखाएँगे तो उन्हें ज़्यादा अधिकार मिलेंगे और आप जानते ही फिर बाद में इसी निर्णय के कारण देश का विभाजन हुआ था उस समय जब देश एक था
हिन्दू-मुस्लिम सब समान थे तो मोतीलाल ने मुसलमानों को खास अधिकार देने की वकालत हिन्दुओ के साथ और इस देश के साथ बहुत बड़ा धोखा किया था ।
आज पाकिस्तान और बांग्लादेश जो पहले भारत ही था, वहां हिन्दू लगभग ख़त्म कर दिए गए, इसका मुख्य दोषी मोतीलाल नेहरू है, और  में अपने पिता के कदमो पर चलते हुए नेहरू ने भी आधे कश्मीर पर पाकिस्तान का कब्ज़ा करवा दिया
Source link
Advertisements