Archive for જૂન, 2017


इस धरती पर मुस्लिम इसलाम और कुरआन ही आतंक वाद की जड़ है जो शांति से रहनेवाला नहीं है उसको धर्म कहना भी पाप है बीएस कहना मर्की और धरती पर बोज बढ़ाएं जानेवाला
एक समूह है जो इंसानियत के नाम पर कलंक है

हिन्दुस्तान की न्याय पालिका का नयाय एक अन्याय है
=========================
अभिनेता अनुपम खेर के तीखे सवाल सुनकर, सुप्रीम कोर्ट के “जजों” का माथा ठनका–.
11 मई से, “तीन तलाक” के “मुद्दे” की, “सुनवाई” के लिए, “5 जज़ों की टीम बैठी थीं”…….!
सुनवाई के “पहले ही दिन” “कोर्ट” नें कहा था, कि :—-
अगर, “तीन तलाक” का “मामला” इस्लाम धर्म” का हुआ …..तो, उसमें हम “दखल नही देंगे”….
इसपर बॉलीवुड “अभिनेता अनुपम खेर” नें “तीखे शब्दों का इस्तेमाल” करते हुए, कहा :–
कि, ठीक है, माई लॉर्ड, अगर आप- “धर्म” के मामले में “दखल” नही देना चाहते, तो :–
जलीकट्टू, दही हांड़ी, गो हत्या, राम मंदिर जैसे :— कई “हिंदुओ” के “मामले” हैं, जिसमें “आप” “बेझिझक दखल देते हैं”…..।
क्या – “हिंदू धर्म” आपको “धर्म नही लगता” ????? या फिर, “आप” मुसलमानों” की “धमकियों से डरते हैं”?????
अगर आप “कुरान” में लिखे होनें से,”तीन तलाक” को मानते हैं ……तो :—
“पुराण” में लिखे, “राम के अयोध्या में पैदा होनें को” क्यों नही मानते????
हमें भी बताइए, यह सिर्फ मैं, नही ……”पूरा देश” जानना” चाहता है।!!
“गाय का मांस खाना” या ,”ना खाना” उनकी” मर्जी” पर छोङ देना चाहिये ….लेकिन, “सुअर” का “मांस” वो नही खायेगें ….
क्योंकि, ये “उनके धर्म के खिलाफ” है ????
“शनि शिंगनापुर मंदिर” में, “महिलाओं” काे, “प्रवेश ना देना महिलाओं पर अत्याचार है “…..जबकि, “हाजी अली दरगाह” में “महिलाओं” को “प्रवेश देना, या ना देना, “उनके धर्म का आंतरिक मामला” है ???
“पर्दा प्रथा” एक “सामाजिक बुराई” है …..लेकिन, “बुर्का/ उनके “धर्म का हिस्सा” है ????
“जल्लीकट्टू” में, “जानवरों पर अत्याचार” होता है….
लेकिन, “बकरीद” की “कुर्बानी”, “इस्लाम की शान”है ????
“दही हांडी” एक “खतरनाक खेल” है ….जबकि,
इमाम हुसैन: की याद में, “तलवारबाजी” उनके “धर्म का मामला” है ????
“शिवजी पर दूध चढाना”… “दूध की बर्बादी” है ….
लेकिन मजारों” पर “चादर चढाने से मन्नतें पूरी होती है” ????
“हम दो हमारे दो”… हमारा “परिवार नियोजन” है ….
लेकिन, उनका- “कीङे-मकौङों” की तरह, “बच्चे पैदा करना अल्लाह की नियामत” है ???
“भारत तेरे टुकङे होगें”, ये कहना -“अभिव्यक्ति” की “आजादी” है …और इस बात से “देश” को कोई “खतरा” नही है….
और “वंदे मातरम” कहने से, “इस्लाम खतरे” में, आ जाता है ????
सैनिकों पर “पत्थर” फैंकने वाले, “भटके हुऐ नौजवान” है ..
और अपने बचाव में, “एक्शन” लेने वाले “सैनिक” “मानवाधिकारों के दुश्मन” हैं????
एक दरगाह पर विस्फोट से “हिन्दु आंतकवाद” शब्द गढ दिया गया और जो “रोजाना” जगह जगह बम फोङतें है, उन “आंतकवादियों” का कोई “धर्म” ही नही है ????
.
क्या हाल कर दिया है, “दलाल मीडिया” और “सेकुलर जजों” ने, हमारे “देश” का, …….
‘;;;;…… मै अनुपमजीके साथ पूरा सहमत हु
यदि समाज से असमानता दूर करनी हो
तो समान भाव से देखना चाहें
==प्रहलादभाई प्रजापति

राष्ट्र पति भवन में ऐसी इफ्तार पार्टी देनेका सिलसिला बांध करना चाहिए
=================================
राष्ट्र पति भवन में ऐसी इफ्तार पार्टी देनेका सिलसिला बांध करना चाहिए ,इस से कोई राष्ट्र भावना नहीं बढ़ती है बल्कि राष्ट्र का अपमान होता है ,और एक तुस्तुकरण की भवानमे इजाफा होता है और कोई एक वर्कके लोगोके लिए ऐसी हरकते बांध होनी चाहिए ,इस देश में बहुत धर्म के लोग
रहते है क्या सभी को ऐसा न्याय मिलता है ? इस देश में लोगोको बॉटनेकी ऐसी हरकते बांध होनी चाहिए ,ये तुस्टीकरण निति बांध होनी चाहिए सभी धर्मोको आदर होना चाहिए किसी एक को नहीं ये देश सभी धर्मोका लोगोका है इस देशमे लोगो को शांतिसे रहने देने चाहिए किसी एक
धर्म के प्रति एक तरफा व्यवहार नहीं होना चाहिए
===प्रहलादभाई प्रजापति

बडेसे बड़े जेब कतरे आईसीसी और बीसीसीआई [ लुटेरे और डकैत ]
======================
आईसीसी ,और बीसीसीआई ,बड़े से बड़े स्टोडिया साबित हो गए है और कई खिलाड़ियोने भी उसमे हिस्सालिया ,जो देश की भली भोली जनता और मैच डियन्सके जेब काट लिए ,ये सबदे ज्यादा बड़ी बड़े जेब कतरे है जिन्होंने लोगो को लूट लिया इस देश में कोई कहने वाला नहीं है इन जेब कतरोंको
इनको खुली छूट मिली हुई है क़ानूनसे जो अपनी मनमानी करके देशकी प्रजाको लुटते है समय पैसे ,इज्जत ,शान बान और आन की लूट ,ये ही सबसे बड़े गद्दार लोग है जिनको हमारे जवानोकी शहादत का भी मजाक उड़ा या है उन बेटे बेटियोकि उन विधवाओंकी इज्जत लूट ली है ये लोग देश को बेच खाने वाले गिद्ध है जो नोच नोच के देश को लूट रहे है हाउ हमारी भारतीयताको लीलाम करते है इन भूखे डफेर लोगोका बहिष्कार करना किए और ये सभी बीसीसीआई और आसीसी बोर्ड को बर्खास्त करना चाहि ताकि लोगोका समय पसे और देशकी इज्जत ,और हमारे जवानोकी शहादतको बचाई जाय उन माँ बेटियोकि और विधवाओंकी भावनाओंको बचाई जाय
===प्रहलादभाई प्रजापति

इंडियन क्रिकेट बोर्ड फिक्स मैच फॉर पाकिस्तान

फादर्स डे = हिंदुस्तानके राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी का आप कृत्य
========================
गांधीजीने फादर्स का रोल नहीं निभाया हिंदुस्तानके टुकड़े करके अपने बच्चोको कंकास्के कुंएमें फेक दिए ,देश के टुकड़े करकर राष्टपिता गाँधी ने कौनसा अपने दो बेटोपे उपकार किया है ,हिन्दुस्तान और
पाकिस्तान जो जबसे अलग हुए है बस लड़ते चले आf रहे है उन्होंने कौनसी आज़ादी दिलवाई है ,? सर न सिर्फ लड़नेकी और दुसरा उनका चेला नहेरुने जलती हुई आग्मे पेटोल छिड़का जो काश्मीर
समस्या कड़ी करदी है इन दोने नेताओंने देशको जलने जलानेमे उनका जीवन व्यतीति किया है बापका
या पिता का कौनसा रोल गाधीने अदा किया है जो आज हम उनको राष्ट्र पिताके नामसे पुकारते है ?
देश की बर्बरता के और जनताके हालांकि और देशके बचपनको ,बचपनमे ही उसको अपाहित करदिया है इसा से तो आज़ादी न मिलती तो अच्छा होता सेक्युलर और हिन्दू मुस्लिम के बटवारे नहोते
आज हम फादर्स डे के दिन हमारे पिताकी गलतियोंके शिकार नहोते और आज़ादी कही बादमे मिलती लेकिन हम हिन्दू मुस्लिम एक होक अंग्रेजोंको बुरी तरह मार्के भगा देते क्योकि हम हिन्दू
मुस्लिमोंको कुछ दिनोंके बाद भी हमारे पिता की गलती मालुम पद जाती और अच्छे दिन आते अगर
हमारे पिता न होते तो ,उनकी मृत्यु के बाद हम अच्छे दिनोंके मालिक होते जो आज नहीं है सिर्फ उनकी वजह से
===प्रहलादभाई प्रजापति

 

ह्यूमन राइट कोम्युमिनिटी का गठन आतंकवादी योका घट्न है
================================
जो ह्यमन राइट कानूनका खुल्ले आम हनन कत्ल करके आतंक वडियोको सहारा और बढ़ावा देते है
और देश में और दुनियामे दहशत फैलानेवालोकि और खुनियोकि वकालात करते है

PM मोदी के आने के बाद ही देश के इतने सारे गद्दारों के चेहरे बेनकाब हुए है, ये बड़ी उपलब्धि है

2014 के बाद से अबतक मोदी सरकार ने कई कार्य किये है 
पर हमारे मुताबिक नरेंद्र मोदी की सबसे बड़ी उपलब्धि ये रही है की देश के अंदर बैठे बड़े बड़े गद्दारों के चेहरे से नकाब उतरे है, और ये मोदी सरकार की सच में सबसे बड़ी उपलब्धि है 
 
मोदी सरकार की सबसे बड़ी योजना अगर कोई है तो वो है “गद्दार पहचानो योजना”
और ये देश के लिए सबसे जरुरी योजना भी है 
चूँकि अब देश के लोग काफी हद तक उन गद्दारों को पहचान चुके है जिन्हे वो पहले अच्छा समझते थे 
और ये गद्दार हमारे देश को बर्बाद करने में जी जान से जुटे हुए थे 
 
* मोदी के आने के बाद ही JNU के गद्दारों के बारे में पूरा देश जान पाया, किस प्रकार के वामपंथी हमारी शिक्षा प्रणाली में घुसे हुए है 
 
* मोदी के आने के बाद ही बरखा दत्त, राजदीप सरदेसाई जैसे दलालों के चेहरे से नकाब उतरे, वरना पहले तो देश के अधिकांश लोग इनको पत्रकार मानते थे 
 
* मोदी के आने के बाद ही बुद्धिजीवी वर्ग का चेहरा देश ने देखा,  अवार्ड वापसी गैंग के दर्शन इस देश को हुए 
ये लोग किस प्रकार भारत और हिन्दू विरोधी एजेंडा पहले चलाते रहे है 
ये तो देश ने कभी जाना ही नहीं था 
 
* मोदी के आने के बाद से ही अब लोगों ने फिल्मबाजो को “हीरो हेरोइन” कहना छोड़ दिया है 
फिल्मबाज़ों और बॉलीवुड के गद्दारों के बारे में अब बहुत से लोग जागरूक हो चुके है 
 
* वामपंथी नेता, कांग्रेस के तथा अन्य दलों के सेक्युलर नेता हिन्दुओ के प्रति कितनी नफरत रखते है 
कैसे तुष्टिकरण के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते है, पत्थरबाजों, आतंकियों का समर्थन करते है, पाकिस्तान के सुर में सुर मिलाते है ये चीजें देश ने देखि 
 
मोदी सरकार के आने के बाद ही ये सारे गद्दार बेनकाब हुए है 
अन्यथा ये 1947 से ही भारत और हिन्दुओ के खिलाफ अपना एजेंडा लगातार चलाये हुए थे, और देश इनको पहचानता भी नहीं था 
 
देश के गद्दारों के चेहरे से मोदी ने नकाब उतारे है, ये नरेंद्र मोदी की सबसे बड़ी उपलब्धि है 

मोदीजीको एक प्रोजेक्ट ने अभूत पूर्व सफलता प्राप्त की है ,देश में देश द्रोहियिकी पहचान प्रोजेक्ट
=====================================
खोंग्रेसका देश द्रोही चहेरा और एजंडा धीरे धीरे उजागर होते जा रहा है

ખોંગ્રેસનો દેશ દ્રોહી ચેરો એને તેની એજન્ડા ધીરે ધીરે દેશની પ્રજા સમક્ષ ઓપન થતો જાય છે

That kongres’S DESH DROHI AEJNDAA and DESH DROHI FACE is now slolly sloly is going to opened

બુદ્ધિ [મુક્તક]
====
ઠોકરો ખાઈ બુદ્ધિ આવવાની
ભોગવી લૌ પહેલાં અજ્ઞાનતા
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ