राहुल गाँधी अपने पुर्खोकी और अपनी मानें हिंदुस्तानकी लूटी हुई डोलत पे कूद रहा है
=========================================
राहुल गाँधी अपने पुर्खोकी और अपनी मानें हिंदुस्तानकी लूटी हुई डोलत पे कूद रहा है ,और उसको सहयोगी या उसके फ़ॉलोअर्स भी कुछ मिलेगा इस स्वार्थ से ही इसको निभाते है उसमे
दो कौड़ी की भी बुद्धि नहीं है और देश चलानेकी बात करता है और एक लीजेंट और बुद्धिशाली
मोदीजी जो दुनियाके मानेजाने वाले लोगोंमेसे एक हैं उसका बरोबरि करने तड़प रहा है ये मुर्ख
देश की जनताको क्या समज बैठा है ये कोई आज़ादिका वक्त की प्रजा नहीं है जो गांधी के कहने पर एक गद्दार , ऐयाशी ,देश द्रोही ,लुटेरेको देश की कमान झोपड़ी थी ,और प्रजा खामोश बैठी थी ,ये आज़ाद भारत की युवा और समझदार प्रजा है जो ये लुच्चे को और उसकी औलादको अच्छी तरह समाज चुकी है ,या खां खा अपना जीवन बर्बाद करता है और उच्च यही की लूटी
हुई दौलत और डकैती जैसी प्रवृत्तियोसी जमाई हुई सम्पाती आखिर काल ऐसेही काम आती है
कभी शुभ काम में नहीं आती ,मोदीजीने तो अपने बल बुते पर और सख्त महंत करके दुनियाको दिखाया है ,और देश की जनताके लिए अपने जीवन देश को समर्पित किया है जो गरीबोंको और आमजनताके हितमे ही काम करते है
===प्रहलादभाई प्रजापति

Advertisements