शत्रुगण की मानसिकता निचले स्तरकी हो गई है

=============================
जब जब शत्रुघन अपना मुँह खोलता है तो अडवाणीजी याद आते है ये कैसा सहयोग है शत्रुगण
कैसे हिंदुस्तान की सभी एजंसियों का विरोध करके लालूजीक बेतुका बचावमे उत्तर ए है ,उनको
मालुम नहीं हैकि जहा धुवा होता है वहा अग्नि जरूर होता है और dhuvaa के बिना अग्नि असंभव है , सरकारी एजंसियोने आप को क्यों नहीं पकड़ा और आप पर केस क्यों दर्ज नहीं किया ? क्यों चोरोके बचावमे उत्तर आते है ? हिंदुस्ता की न्याय पालिकाने लालू जिको सजा सुनाई है ये भी वो नजर अंदाज कैसे करते है ,अपना राज नीतिक स्वार्थ के लिए निति नियम कानून को भी वो नजर अंदाज करते है ,धिक्कार यही ऐसी नेता गिरीसे और धिक्कार है ऐसे नेता को
जो देश की सविधानसे बनी एजन्सियोंका अपमान करते है और लालूजीक बेटेको सपोर्ट करते है आप इतना स्वार्थी हो गए ये लोगोको मालुम मनाही ह्नै
===प्रहलादभाई प्रजापति

Advertisements