अलगार वादियोंके करीबी रिस्तेदार / सपोर्टर की असली पहचान होने लगी है
==============================
जैसे जैसे आतंकियों का सफाया होता जा रहा है वैसे वैसे उनके करीबी ,उनके सपोर्टर ,और उनको
फंडिंग करने वालो का दिल दहल रहा है और उनकी पहचान होती जा रही है जो लोग उनके पीछे
थे और सायलनतळी उनके जरिए देश को उल्लू बनारहेथे और देश की सिक्योरिटी लेके देश को ही
तोड़नेमे लगे थे वो अब धीरे धीरे बाहर आने लगे है ,अब्दुल्ल्ह फेमिली ,महबूबा फेमिली ,जो कश्मीरी
नेतागिरी करते थे ,और देश के सेक्युलर , खोंग्रेसी ,और खोंग्रेसके मालिक जो ७० सालोसे देश को
उल्लू बनारहे थे और लूट रहेथे ,और देश को खोखला कर रहेथे ,उनकी पहचान होने लगी है उनका
रिस्ता दुबई , इस्लामाबाद और डी कंपनीके साथ जो था वो अब धीरे धीरे खुल रहा है ,जैसे जैसे
आतंकवादियोका खत्मा हो जा येगा तभी तक तो ये लोग पूरीतरह लगे हो गए होंगे और लोगोको
उनकी पहचान हो गई हो होगी ,जो देश को लम्बे समय से बंधक बनाके बैठे थे
===प्रहलादभाई प्रजापति

Advertisements