Category: સ્મૃતિ


लहेरु और आक्रान्ताओकी खेतीकी फसल हिन्दुस्तानसे साफ होनीं जरुरी

फरजीवाल ,रेवड़ीवाल ,चार्ल्स शोभराज और दिल्हीका ठग मि. नटवरलाल
और उसके पहलेके व् पिछेके ,परिवारवादी फेमिली खुद लहेरुकि और उसके
साथ आलू ,उल्लायम ,महाराष्ट्का वक्रमुखी ,खाकरे ,बंगालकी सफेदपोशाकि
स्लीपरबाज ,दक्षिण भारतके और उत्तरभारतके पनपे हुए वामपंथी,नक्षली सभी
और देशमे पैदा किय गए नए नए जयचंद जो इस देशके लुटेरे और डकैत है
हिन्दुस्तानमें आये हुए आक्रांता ,डफेर ,डकैत ,लुटेरे ,जिन्होंने यहाकि हिन्दू
सनातनी भूमि को हर तरहसे गन्दी की है और संस्कृति ,रीती रिवाज और
सभी हिन्दू परम्पराए पर सभी एजगलोंसे हमला कर के बर्बाद की है यहाकि
गुरुकुल ऋषि परम्पराए शिक्षा पद्धति को बर्बाद कर डाली है और यहाँका
हिन्दू सनातनी इतियासको हमारी आनेवाली जनरेशनको भुलानेकी हर कोशिश
की हैं , फिर ,उनकी पश्चिमी ,वामपंथी, इस्लामी और कोम्युनिष्ठी ,कॉन्वैंटी ,
परम्पराए ,और उनका इतियास थोपनेकी हर कोशिश की है , वो सभी
कन्वर्जन करके ,जोर जुल्म ,तलवारकी धारसे ,या धन ,सत्ता लोभ लालच ,
व् साजिसकी हर मुमकिन कोशिश करके इस देशकी मिट्टीको गन्दी की
है फिर भी ये देवॉकी भूमिने अपना अस्तित्व टकाये रखा है उसको कम्प्लीट
मिटने नहीं दिया है हमारे कई वीर पुरुष, राजा ,रजवाड़े ,संत ,महंत ,और
राष्टप्रेमी लोगोने अपना बलिदान देके भी उसको हर तरहसे बचानेकी हर
मुमकिन या न मुमकिन कोशिश करके बचाई है और इस महान भूमिका
कम्प्लीट वर्जित होते बचाई है हमें आज १४०० साल पहेलेका इतियास
पढ़ना होगा और हमारी वो सभी परम्पराए शिखानी होगी और यहां १४००
साल में आये हुए घुसे हुए ,आक्रांता ,लुटेरे ,डकैत , ऐयासि, घूसणखोर
पहचानना होगा जो लोग यहके थे लेकिन तलवारके डरसे सलवार पहनलिया है
उनको अपना गौरवशाली इतियास का ज्ञान कराना होगा और फाधरकी चादरको
पहचाननी होगी उसमे भी जो लोग अपनी मजबूरियोकी वजहसे बाहर चले गए
है उनको भी समजाना होगा और ये महान भूमिका बचानी होगी अबके समय
हमारे प्यारे ,मोदीजी ,योगीजी अमितजी ,हेमतविश्वा ,जैसे अनेकी कई नेता और
बुद्धिजीवी लोगोको हमे साथ सहकार देना होगा ये आजके समयमे जरुरी है
कई जर्नलिस्ट ,मीडियाकर्मी ,सम्पादक ,चेनले भी ये अच्छे काम में लगी है
और जो विघटन कारी लोभी लालची ,वायर ,फायर ,टायर ,लुटियंस ,खड़तल
खैराती,लोभी ,लालची, है उनको पहचाननके उनका बहिस्कार होना जरुरी है
===प्रहलादभाई प्रजापति ,,,,,,अहमदाबाद ,३० /९ / २०२२

लहेरु और आक्रान्ताओकी खेतीकी फसल हिन्दुस्तानसे साफ होनीं जरुरी

फरजीवाल ,रेवड़ीवाल ,चार्ल्स शोभराज और दिल्हीका ठग मि. नटवरलाल
और उसके पहलेके व् पिछेके ,परिवारवादी फेमिली खुद लहेरुकि और उसके
साथ आलू ,उल्लायम ,महाराष्ट्का वक्रमुखी ,खाकरे ,बंगालकी सफेदपोशाकि
स्लीपरबाज ,दक्षिण भारतके और उत्तरभारतके पनपे हुए वामपंथी,नक्षली सभी
और देशमे पैदा किय गए नए नए जयचंद जो इस देशके लुटेरे और डकैत है
हिन्दुस्तानमें आये हुए आक्रांता ,डफेर ,डकैत ,लुटेरे ,जिन्होंने यहाकि हिन्दू
सनातनी भूमि को हर तरहसे गन्दी की है और संस्कृति ,रीती रिवाज और
सभी हिन्दू परम्पराए पर सभी एजगलोंसे हमला कर के बर्बाद की है यहाकि
गुरुकुल ऋषि परम्पराए शिक्षा पद्धति को बर्बाद कर डाली है और यहाँका
हिन्दू सनातनी इतियासको हमारी आनेवाली जनरेशनको भुलानेकी हर कोशिश
की हैं , फिर ,उनकी पश्चिमी ,वामपंथी, इस्लामी और कोम्युनिष्ठी ,कॉन्वैंटी ,
परम्पराए ,और उनका इतियास थोपनेकी हर कोशिश की है , वो सभी
कन्वर्जन करके ,जोर जुल्म ,तलवारकी धारसे ,या धन ,सत्ता लोभ लालच ,
व् साजिसकी हर मुमकिन कोशिश करके इस देशकी मिट्टीको गन्दी की
है फिर भी ये देवॉकी भूमिने अपना अस्तित्व टकाये रखा है उसको कम्प्लीट
मिटने नहीं दिया है हमारे कई वीर पुरुष, राजा ,रजवाड़े ,संत ,महंत ,और
राष्टप्रेमी लोगोने अपना बलिदान देके भी उसको हर तरहसे बचानेकी हर
मुमकिन या न मुमकिन कोशिश करके बचाई है और इस महान भूमिका
कम्प्लीट वर्जित होते बचाई है हमें आज १४०० साल पहेलेका इतियास
पढ़ना होगा और हमारी वो सभी परम्पराए शिखानी होगी और यहां १४००
साल में आये हुए घुसे हुए ,आक्रांता ,लुटेरे ,डकैत , ऐयासि, घूसणखोर
पहचानना होगा जो लोग यहके थे लेकिन तलवारके डरसे सलवार पहनलिया है
उनको अपना गौरवशाली इतियास का ज्ञान कराना होगा और फाधरकी चादरको
पहचाननी होगी उसमे भी जो लोग अपनी मजबूरियोकी वजहसे बाहर चले गए
है उनको भी समजाना होगा और ये महान भूमिका बचानी होगी अबके समय
हमारे प्यारे ,मोदीजी ,योगीजी अमितजी ,हेमतविश्वा ,जैसे अनेकी कई नेता और
बुद्धिजीवी लोगोको हमे साथ सहकार देना होगा ये आजके समयमे जरुरी है
कई जर्नलिस्ट ,मीडियाकर्मी ,सम्पादक ,चेनले भी ये अच्छे काम में लगी है
और जो विघटन कारी लोभी लालची ,वायर ,फायर ,टायर ,लुटियंस ,खड़तल
खैराती,लोभी ,लालची, है उनको पहचाननके उनका बहिस्कार होना जरुरी है
===प्रहलादभाई प्रजापति ,,,,,,अहमदाबाद ,३० /९ / २०२२

पुरे हिन्दुस्तांको और हिन्दू सनातनियोको ब्लैकमेल करती लघुमतिकी चादर पहनकर धर्मके नाम पर देशका बटवारा करवानेके बावजूद देशमे रुकी जमातकी ना इंसाफ़ी
===============
वक्फबोर्ड, मुस्लिम पर्सनल लो बोर्ड ,उनके विकासके लिए मायनॉरिटीका लेबल, मात्र हिन्दू मंदिरो हिन्दू ट्रस्टोंकी आय पर सरकारी हकूमत, उनके मौलिक अधिकार हक़क्वे लिए गौ वधका कानून बनते रोकना, सिर्फ उनके मजहबके स्थान मसज़ूदो के रख रखावके और मौल्विओको वेतन ,देशके खजानेमेसे आवंटन करना करवाना, सिर्फउनके कल्याण विकासके लिए हिंदुस्तानके सविधानके साथ खिलवाड़ करके कईनए कानूनको घुसेड़ के सविधानकी मर्यादायका पालन नहीं करना , ये कैसा देश परउपकार है ? ये उनको धर्मके नाम पर बटवारा करने करवानेके बावजूद / होनेके बाद यहां कई उनके लोगोको ठहरनेकी अनुमति देके देशने क्या कोई गलती की है ? और ये लोग यहाँ ठहरकर उनके कानून ,उनके रीतिरिवाज ,उनके सरिया कानून देशके दूसरे लोगो पर थोनेकी साजिसे करने करवाना ,कनवर्जनकी कई तरहकी साजिसे करना करवाना ,जैसेकि ,लवजिहाद, लेंड जिहाद ,बस्ती बढ़ानेकी तरकीबे ,ज्यादा शादियों रचके रचवाके बस्ती बढ़ाना ,जोर जुलमसे कन्वर्जन करना करवाना ,रोड परया देशमे कही पर मन चाहे वहा नमाज पढ़ना पढ़वाना,जगह जगह पर मज़ारे मस्जिदे
बनाके या बनवाके सरकारी लाभ उठाना मदरेसेमे उनके ही धर्मका शिक्षण देना बच्चोको गणित सायंस विज्ञान या आईटी का शिक्षण कम पढ़ाना और उनके मजहबी ज्ञान देना ये उनका देश पर कौनसा उपकार है ? और देशमे विघटन कारी एनजीओ
संघठन ,संस्थाए बनाके बनवाके पुरे हिन्दू सनातन समाजको नुक्सान पहुचाके ऐक मुस्लिम देश बनानेकी साजिसे करना करवाना , देशमे बाहरी लोग ,रोहिंग्या ,बांग्लादेशी लोगोको अवैध रूपसे बसाना और इसीतरह उनकी अपनी बस्ती बढ़ाके देश पर कब्जानेकी साजिसे ये सब देश पर उनका कौनसा उपकार है ? ये सब देशके बुद्धिजीवी देसके प्रबुद्ध नागरिक राष्टप्रेमी देश भकत लोग और देशके सभी समाजको ये सोचना होगा,संजना होगा ,देशके और समग्र समाजका विकास के लिए हमे सबको सोचना होगा और मोदीजी ,अमितजी , योगीजीको हेमतविश्वा ,जैसे देशके
नेताओंको साथ सहकार देना होगा ,उसमे ही हम सबका कल्याण है
===प्रहलादभाई प्रजापति ,, अहमदाबाद , २९ /९ /२०२२
=== प्रदेश अध्क्षय गुजरात ,राष्ट्रीय हिन्दू महासभा

हिंदुस्तान और सनातनके विनाशकारी बिंदु

अल्पसंख्यक बहुसंख्यक, मुस्लिम पर्सनल बोर्ड के नियम और कानून
वक्फ बोर्ड, तुष्टिकरण की नीति, हिंदू मंदिरों, ट्रस्टों, नियमों पर सरकारी अधिकारियों के आरक्षण की नीति, जाति और धर्म के आधार परराष्ट्रहित की भावना रखने वाले लोग, उनका व्यक्तिगत लालच, और सत्ता की भूख, समाज में असामाजिक तत्वों का प्रभाव जो कानूनसे नहीं डरते, क्योंकि देश के कानून सड़े हुए हैं कानून एक स्वतंत्र हिंदुस्तान के लिए काम नहीं करता है, देश के पास असली आजादी नहीं
है, अंग्रेजों ने केवल सत्ता की अदला-बदली की थी और एक साजिश के रूप में, उन्होंने एक लहेरुको गुप्त एजेंट की तरह नियुक्त किया था जिसने एक वंशवादी साम्राज्य बनाया, और देश में मुस्लिम परस्त कानून बनाए है उन्होंने गोहत्या के कानून को रोक दिया, उनके वंशजों ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का गठन किया, वक्फ बोर्डको साजिसके गर्भित कानून द्वारा हिंदुस्तान की भूमि कानूनमुस्लिमोंके लिए बनाया गया सरकार ने मंदिरों पर कब्जा कर लिया है, किसी अन्य धर्म पर सरकार का कब्जा नहीं है, केवल हिंदू धर्म के मंदिरों और हिन्दू धार्मिक ट्रस्टकी आय पर कब्जा किया गया है और उस आय से अन्य धर्मों यानी मुस्लिमोंकी मस्जिदोंके रख रखाव और मौल्वियोको पगारमें खर्च किये जाते है उसी तरह सिर्फ मुस्लिमोंको लाभ और
उनके लिए खर्च किये जाते है मुसलमानों को लाभ पहुंचाया है। देशका धन लूटकर देश में नए नए जयचंद और कई परिवार वादी बनाकर, अपना एक समूह मंडल बनाकर देश पर राज चलाया है और देशका नाहीवत किया गया है और केवल
देश पर राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खतरा पैदा किया गया है, पड़ोसियों को देश
की सीमाएं कब्जवाई हैं,अपनी खुदकी इमेज को बढ़ावा देनेके लिए ऐसे कई कुकर्मों से देश पंगु हो गया है।देश में कई जातिवादी समीकरण बनाके समाजको बाँट दिया आपसमे जातिधर्मके प्रांतके ,भाषाके नामसे वैमनस्य पैदाकिया और देशकी शक्तिका बटवाराकिया करवाया अपना राज और सत्ता चलानेके लिए अपना वंश वाद को सत्तामे रखने के लिए देशकी एकता अखण्डताके साथ खिलवाड़ किया गया है प्रशाशनमे अपने चहेते लोगोको आगे रखा पावरमे रखा और देश में प्रशाशनिक गुलामोंकी टोली , मंडली , एसोसिएशन एनजीओ और न्याय पालिकामे भी अपने लोगोको पावरमे रखके खुदके प्रति कानून सलामती बनाई कई सारे ज्ज़्जमेंट अपने फेवरमे दिए दिलवाये ,इत्यादि तरह देश की गुलामी बनाये राखी है ,ये सभीको तोड़नेके लिए बदलनेके लिए राष्ट्रवादी ,राष्टप्रेमी ,लोग अब सत्तामे आये है जो मोदीजी अमितजी ,योगीजी,हेमंत विश्वा जैसे अनेक राष्ट्रभक्त जे अब पावरमे ए है तो हमें उनको
साथ सहकर देना होगा और राष्ट्र विरोधी तत्व ,जैसेकि रेवड़ीवाल ,फर्जीवाल ,मुलामुलायम ,लालू , ओबेसी, ममता ,पवार, ठाकरे ,सोरेन ,दक्षिण भारतके डीएमके ,
वामपंथी ,कोम्युनिष्ठ ,और ,नक्षली , लोगोसे बचना होगा और उनका बहिस्कार करना
होगा। देशके कानून बदलने होंगे , जो अंग्रेजोने उनके बचावके लिए और देशको
गुलाम रखनेको बनाये गए थे उसको बद्लनाही होगा
==== प्रहलादभाई प्रजापति ,,,,अहमदाबाद दिनक 27/9/2022
====प्रदेश अदक्ष गुजरात, राष्ट्रीय हिंदू महासभा

હિન્દુસ્તાન અને સનાતની ના બરબાદીના બિંદુઓ .

લઘુમતીના બહુમતીના નિયમો અને કાયદા , મુસ્લિમ પર્સનલ બોર્ડ .
વક્ફબોર્ડ, તુષ્ટિકરણની નીતિ , હિન્દૂ મંદિરો ,ટ્રસ્ટો પર સરકારી હકુમત
આરક્ષણ ના નીતિ નિયમો, જાતિ ધર્મના આધારે થતા અન્યાયો લોકોમાં
દેશ હિતની ભાવના કરતા પોતાનો વ્યક્તિગત લોભ લાલચ ને સતા
સંમ્પત્તિની ભૂખ , સમાજમાં અસામાજિક તત્વોનો પ્રભાવ જેઓને
કાયદા કાનૂન નો ડર નહિ ,કારણ કે દેશના કાયદા પાગળા છે જે કાયદા
અંગ્રેજોએ તેમના રક્ષણ અને દેશને ગુલામ રાખવા ઘડેલા હતા તે કાયદા
અમલમાં છે જેનો આઝાદી પછી કોઈ બદલાવ થયો નથી મૂળ તો આ
કાયદા આઝાદ હિન્દુસ્તાન માટે ચાલેજ નહિ , દેશને આઝાદી માલુજ નથી
અંગ્રેજોએ માત્ર પાવર ની અદલાબદલી કરી હતી અને સાજિસ રૂપે લહેરુંને
તેઓનો ગુપ્ત એજન્ટ નીમેલો હતો જેને વંશ વાદી સામ્રાજ્ય ઉભું કર્યું ,અને
દેશમાં મુસ્લિમ પરસ્તી કાયદાઓ ઘડયા . ગૌવધ નો કાયદો તેમણે જ
અટકાવેલો , તેમના વંશજોએ મુસ્લિમ પર્સનલ લો બોર્ડ રચ્યું , વક્ફ બોર્ડને
સાજિસ રીપે હિન્દુસ્તાન ની ભૂમિ કાનૂન લાવી વેચવાનો કારસો રચ્યો હિન્દૂ

મંદીરોનો કબ્જો સરકારી કરી દીધો બીજા કોઈ ધર્મ પર સરકારી કોઈ કબ્જો
નહિ માત્ર હિન્દૂ ધર્મના મંદિરોની આવક પર કબ્જો કર્યો અને તે આવક થી
બીજા ધર્મોને યાની મુસ્લિમોને ફાયદા આપયાં મસજિદનો વિકાસ મોઉલવીઓને
પગાર ભથા ,મસજિદોના રાખ રખાવનો નિભાવ ખર્ચ વગેરે સાજીશો રચી
સનાતન ધર્મ ને પાંગળો ને કંગાળ બનાવવાનો કારસો રચ્યો ,દેશના ભાગલા
કરી હિન્દૂ મુસ્લિમ ને અંદરો અંદર લડાવ્યા, દેશમાંથી સંપત્તિ ની લૂંટફાટ
કરી કરાવી અને દેશમાં જયચંદો પેદા કરી પોતાનો એક વર્ગ ઉભો કર્યો
દેશના વિકાસમાં રાષ્ટ્રીય કે આંતર રાષ્ટ્રીય રીતે જોખમ જ ઉભું કર્યું ,દેશની
સીમાઓને પાડોસીઓને પધરાવી ધીધી ,આવા અનેક કરતૂતો દ્વારા દેશને
પાંગળો બનાવી દીધો છે આ બદી દૂર કરવા દેશની રાષ્ર્હિત સમજતી
જનતાએ જાગવું પડશે અને આવા દેશ દ્રોહી પરિવારોને સત્તાથી હટાવાવ
પડશે અને કાયદાઓનું પુનઃઘટઃન કરવું જરૂરી છે મોદીજી, અમિતજી ,યોગીજી ,
હેમનતા વિષવષર્માં જેવા અનેક રાષ્ટ્રભકત નેતાઓને સાથ આપવો જરૂરી
===પ્રહલાદભાઈ પ્રજાપતિ ,,,, 27 / 9 / 2022
===પ્રદેશ અદ્ક્ષ ગુજરાત ,રાષ્ટ્રીય હિન્દૂ મહાસભા

કઈ કેટલા નામધારી માણસ નો અર્થ એકજ થતો જોવા મળે છે

રેવડીવાલ , ફરજીવાલ ,ઠેકડીવાલ ,ધૂર્તબાજ ,ભૂંકણબાજ, દિલ્હીનો નવો ચાર્લ્સ શોભરાજ ,દિલ્હીનો ઠગ ,મી.નટવરલાલ.મુંગેરીલાલ,હવાઈ મહેલનો માલિક,જયચંદ
લોકોની ,પ્રશાશનનની,સવિધાનની ,ન્યાયપાલિકાની ,મર્યાદાનો દુરુપયયો
કરનાર જયચંદ .એટલે ભણેલો ગણેલો કુટિલ સાજિસખોર થૂંક ચટો નેતા
કેજરૂદીન ,જે લહેરૂથી પણ ભયંકર ગર્ભિત એવો દેશનો દુશમન એવો તુષ્ટિખોર
નેતા કેજરૂદીન પર મારો સાફસાફ આરોપ ,
===પ્રહલાદભાઈ પ્રજાપતિ ,,,,25/9/2022

देशके लिए घातक जयचन्दोंको पहचानिये

दुनियाका एलउता देश जहाँ विदेशियोकि और आंतरिक देश विरोधी पार्टी-पक्ष और नेताओ की सत्ता संपत्ति के लिए धार्मिक – मजहबके द्वारा कनवर्जनी साजिसोसे आम
जनताका कञ्चुबर आम जनताकी जीवन शैलीमे अन्धाधुन्धी देशका और व्यक्तिगत
विकासमे बाधाए चोर लुटेरे देश द्रोही ,विघटनकारी ,धूर्त ,रेवड़ीबाज जयचंद जैसे
नेता और उनकी पार्टी पक्ष देशको तोड़नेमे लगी है देशमे परिवारवाद वाले वंशज ढोंगी,लहेरु खानदान ,लालू ,मुलायम वंशज,इस्लामिक कतरवादी नेताए ,वामपंथी
कोम्युनिष्ठ ,लेफ्टिस्ट ,लोग अपना अपना एजंडा लेके सनातनियो पर कब्जा करना
चाहते है ,देशमे , चादर फाधर का कंवर्जनी खेल कोम्युनिष्ठ और नक्षलयकी धूर्तता
ये सभी की साजिस यहाकि सनातनी भूमि और संस्कृति हड़पकर उसको नष्ट करके
उनकी अपनी विदेशी जो यहाकि जडमूलसे नहीं है उसमें परवर्तित करनेमे लगे है
जितने भी ये वामी कामी इस्लामी,यहके मूल निवासी नहीं है लेकिन कन्वर्जन होक
हुए है विदेशियोसे जो अपनीही भूमिका अपनाही मूल सनातनी स्वरूपको मिटाने
में लगे है ये जयचंद ,देशद्रोही ,राष्ट्रविरोधी तत्व ,विदेशियोंके सहारे सत्ता सम्पती धन
और शान बान बनानेको देशको और यहाकि भूमि को लूटके अपनी ही पहचान बेचने निकले है ,उसमे दिल्हीका रेवड़ीवाल जो लहेरु से भी देशके लिए खतरनाक
है ये नक्सली क्रिप्टो क्रिचिएंन वामपंथी हो गया है ऐसा मेरा आरोप है जो राष्ट्रके लिए घातक है उससे देशकी जनता सावधान रहे
=== प्रहलादभाई प्रजापति ,,,अहमदाबाद ,,, २४ / ९ / २०२२

દેશને બરબાદીના પંથે લઇ જતા કેજરૂદીનથી ચેતો

લહેરૂનો પણ બાપ દિલ્હીનો નવો ઠગ અને નવો ચાર્લ્સ
શોભરાજને પણ ઓટી મારે તેવો કેજરૂદીન દેશની જનતાને
મૂર્ખ બનાવી રહ્યો છે બધાજ ક્રીમીનલોને એકઠા કરીને બધાજ
દેશ દ્રોહીઓને બધાજ રાષ્ટ્રવિરોધી ઓને તથા મુસ્લિમ તુષ્ટિકરણ
ની નીતિ અપનાવીને વિદેશી શક્તિઓના સહારે દેશને તોડવા
નીકળ્યો છે લોકોની મજબુરીનો લાભ ઉઠાવીને ,લોકોની સત્તાની
લાલચનો લાભ ઉઠાવીને અને લોકોની સત્તા ને સંપત્તિની લાલચનો
લાભ ઉઠાવી આપણા સમાજને અને દેશને તોડવા નીકળ્યો છે આ
કેજરૂદિને આજ દિનમાં લોકોને ખોટા વચનો આપીને ભરમાવીને
દેશ વિરોધી શક્તિઓને એકઠ્ઠી કરીને મોટા મોટા કૌમ્ભાડો કરીને
પોતાના નામની જાહેરાતો કરીને મીડિયા ,સત્તા સંપત્તિ લાલચુ નેતાઓ
ની સરદારી કરી દેશમાં અરાજકતા અંધાધૂંધી ,અને દેશની શાંતિને
વિકાસને વેર વિખેર કરવા માગે છે અને આપણા દેશને ફરીથી વિદેશીઓની
ગુલામીમાં ધકેલવા માગે છે આ કેજરૂદ્દીન લહેરું અને ખોંગ્રેસ કરતા
ખતરનાક છે જે ખોંગ્રેસની અને મુસ્લિમ વામપંથી કોમ્યુનીષ્ઠ અને
નક્શલી ઓની બીજી અને ગર્ભિત આવૃત્તિ છે લોકો નહિ સાંજે તો
દેશની બાઇબાદી નક્કી છે અને ફરીથી ગુલામીની સાંકળ સપડાઈ જશે
અન્નાજીને દગો આપ્યો ,પોતાના શરૂઆતના સભ્યોને દગો આપ્યો ,પોતાના
એક પછી એક મંત્રીઓને દગો આપીને જેલમાં ધકેલી દીધા હવે પોતાના
વિધાન સભ્યો અને મંત્રીઓને જેલમાં રહેવા માટે ઉશ્કેરણી કરીને
તેઓને જેલમા મોકલીને નવા સભ્યોને ભેગા કરીને એક મોટું કૌમ્ભાન્ડ
કરી દેશને બરબાદીના પંથે લઇ જવા ની તૈયારી કરી રહ્યો છે બુદ્ધિજીવી
મીડિયા અને રાષ્ટ્રભકત લોકોએ દેશને બચાવવા આગળ આવવું પડશે
નહીંતર બહુ મોડું થઇ જશે તો આ કુટિલ ધૂર્ત ,ચાર્લ્સ શોભરાજને પણ
શરમાવે તેવા કાઉમ્ભડ કરી દેશને બરબાદીના પંથે ધકેલી દેશે માટે
દેશનો સમસ્ત સમજુ નાગરિક આગળ આવી પોતાની આસપાસના
લોકોને સમજાવી દેશને બરબાદીના પાથમાં જતા બચાવે
===પ્રહલાદભાઈ પ્રજાપતિ ,, અહમદાવાદ ,, 21 /9/2022
=== ગુજરાત પ્રમુખ રાષ્ટ્રીય હિન્દૂ મહાસભા

एक ऐसा खल नायक जिसको भविष्यका पूरा ज्ञान होता है (दिल्हीका नया चार्ल्स शोभराज )

अपनी बर्बादियोकि बुलंदी पर बैठके अपने सभी ऐसे साथी चुनता है की जो सभी उनके जैसे व्यवहारमें लिप्त पाए जाते है और उनका मकसद ही गलत और ऐंटी
सोस्यल एक्टीविटी से ही उनके मन मस्तकमे डाव पेच चलते रहते है और निरंतर
ऐसी ही गतिविधियोसे अपनेको समाजको देशको और देशकी जनताको क्षुल्लुक
लाभ दिखाके हानि पहुंचाते रहते है और खुद का और समाजकी दुर्गति करता है
ऐसे चार्ल्स शोभराज ऐसे कई लोग जो कुटिल बुद्धिसे साजिसे करते रहते है लेकिन
नेचर ,किदरत ,श्रुष्टि ,या कर्मका नियम समजो उनको उसका बदला जरूर भुगतना
पड़ता है यहाँ इतियास गवा हैं सदबुद्धिसे पॉजिटिव समजदारिसे किया गया कोईभी
कर्म किसीको नुकशान नहीं पहुँचता फिर वो करनेवाला हो करवानेवाला हो यहां
हमारे हिन्दुस्तानमें लोग सनातनी हिन्दू सभी सेक्युलर स्वभाव वाले है और सहिष्णु
है जिसक्का एइसे लोग फायदा उठाते रहे है दिल्हीका नया चार्ल्स शोभराज और
ठग देशकी जनताको गुमराह करता है ,मुफ्तकी रेवड़ी मास्टर जो उसके जेबसे
एक ही कौड़ी देनेवाला नहीं है ,हमारे तुम्हारे टेक्ष के पैसे और सरकारी खजानेको
लूटके और लुटवाके असामाजिक धंधे चलवाके उसकी आम्दानीसे अपनी मण्डली
चलाता है जी सारी मंडली ऐसे कार्योमे डायरकेट या इन डायरेक्ट रीतसे जुडी है
मुफ्तके लुभावने वचनो से लोगोको हथेलीमे चाँद दीखता है जिससे समाजमे नेगेटिव
सोच वाले और तुरंत क्षुल्लुक लाभ लेने वाले लोग उसमे भरमा जाते है और उनका
होना योगदान देके उसको साथ सहकार देके बादमे प्रायचित करते है तबतक तो
देर हो गई होती है और एइसा चार्ल्स शोभराज उनका अपना मक़्दस में सफल होता है
लेकिन प्रायचित करके क्या करे बिचारे लोग चोर जब लोगोको भरमाके चोरी करके
भाग जाता है तो सभी को उनको अपने किया कर्मको भुगतना पड़ता है और विधवा
विलाप करते है इसीलिए देशकी जनताको अपील है की ऐसे चोरोसे सावधान रहिए
ये विलन कभी कभी प्रशाशन को भी धमकी देता है अपनी मन मानी करने करवानेको
और हमारे सविधान ,कानून ,कायर्पालिका,प्रशाशन और न्याय पालिकाकी मजबूरियोका और इंसानियतका फायदा उठाता है देशके राष्टवादी लोगोसे अपील
है की समाजमे एइसे लोगोसे सावधान रहे और अपने अपस्के लोगोको भी समझाए
हमे कितने बरसोंके बाद एक कुशल दिर्गद्रष्टा निश्वार्थी और देशका और देशकी जनताका सच्चा हित समझनेवाला युग पुरुष मिला है और अपने देशकी बागडोर
बहुत हिमत और समजदारिसे उनके अपने हाथोमे है ऐसे महान नेता श्री मोदीजीको
जो यशस्वी प्रधान मंत्री जी मिले है उनको समझिए और उनके हाथ मजबूत करनेमे
सभी राष्टभक्त लोग योगदान दे ऐसी मेरी सभीसे अपील है , दिल्हीका नया चार्ल्स
शोभराज ,मि. नटवरलाल को समज जाए ,
===प्रहलादभाई प्रजापति ,,,, १९ /९/२०२२
===( गुजरात प्रदेश अध्यख्य ,राष्ट्रीय हिन्दू महासभा )

भारतकी न्याय पालिका वामपंथी ,इस्लामिक और कोम्युनिष्ठ लोगोके कब्जेमें ?

हिन्दुस्तांको लुटनेवाले डकैत लुटेरे जो आक्रांता थे उन्होंने न्यायपलिकाको कब्जेमें
ले लिया है जो सनातनको हर ऐंगलसे घेरकर लुटाते है इतियास उठाके देख लो
आपको सभी एविडन्स मिल जाएंगे ,लहेरुसे लेकरके , इस्लामिक मुगल ,डच, वलंदा
फ्रेंच ,हुण ,फिरंगी,अंग्रेज , वामपंथी ,कोम्युनिष्ठ , नक्षली ,लेफ्टिस्ट, सभी लोगोने यहां

आक्रमण ही किया है और सनातन को लुटा है संतनकी घोर अवहेलना ही की है
यहां सनातन तरह तरह की साजिसोंमें कटता गया सिकुड़ता गया और बड़े हिस्सेको
छोड़ता गया है ,अपनी सहिष्णुताको न छोड़ते हुए सनातन पुरीतरहसे सिकुड़ता गया
है आज भी सोस्यल मीडिया ,होते हुए सोस्यल नेट वर्क होते हुए भी इन लोगोने न्याय
पालिका ,प्रशाशन ,कार्यपालिकामे उनका अपना एजंडा चालु रखा है ,लेकिन वक्त
पुकार चीख चीख के बोल रही है और लोगोको उसका ज्ञान और सत्यका अरिसा दिखा

रही है ,आजादीके बाद लहेरु और उसका खानदान अंग्रेजोके वाइसरॉयकी
तरह ही देशको कब्जेमें रखा था जे इतीयसमे उनके कई एविडन्स दर्ज है ,लहेरुसे
लेकर राउल बाबा तक के उनके पुरे खानदान और रिलेटिव सगे सहोदर, और
देशके अंदरके जयचंदो के सहारे देश को कब्जेमें रखा था और मोटे तोर पे अब तक

भी है ये लुटेरे जो लूटने आये थे वो यहाँ स्थायी होके देश को लुटते रहे है विदेशोंमें
उनकी संप्पत्ति जमाते गए है पुरे सनातनमे ढोंग रचाके नकली वेश व्यवहार दिखाके
ये देशको जाती ,धर्म ,प्रांत और प्रदेशमे बाटते चले गए है ,विदेशोके सहारे सनातनी
देशको कई टुकडोमे बाँट दिया है ,लहेरु खानदान इस्लामिक और वामपंथी खानदान
है जो सनातनका घोर विरोधी है उन्होंने नक्षली पैदा किये ,कोम्युनिष्ठ पैदा किये ,

लेफ्टिस्ट और सनातनको भी टुकडोमे बाटा है ,कई महा पुरुष और वीर योद्धओंने
अपने जानकी बाजी लगाके सनातनकी हिफाजत की है जैसेकि ,छत्रपति शिवाजी ,
महाराणा प्रताप ,लक्ष्मीबाई ,स्वामी विवेकानंद , दयानन्द सारस्वरी ,राजाराम मोहनराय
और कई दक्षिण भारतके राजा ,संत ,भक्त ,को कई नाम है ,महा पुरुष ,महर्षि श्री अरविन्द ,

, लेकिन इन लोगोने इतनी क्रूरता कभी नहीं दिखाई है जो क्रूरता विदेशी आक्रान्ताओने

दिखाई है, ये सभी लोग अपने बचावके लिए लड़े है नाकि उनको
ख़तम करनेको लडे है ,पृथ्वी राज चौहानने कितने दफे गज़नी घोरिको परास्त कर
माफ़ी मांगनेसे छोड़ दिया है ये उसका उदाहरण है उसका वध न ही किया या उसको
नष्ट किया जब उनके साथ छल करके पकड़ा गया और हराया , तब जाके उसका
वध किया और अपनेको भी मार दिया ,ये सनातनी इतियास है, अब हमें खुदको बचानेके

लिए सख्त होना पडेगा हमारी शहिष्णुता को बचानेके लिए भी सख्त होना है
बुद्धिजीवी सर्जक, कवी लिखक विश्लेषक ,संत महंत ,आचार्य ,बावा बापू ,कथाकार

,कलाकार स्वदेशी राष्ट्रवादी पत्रकार सोस्यल मीडिया चेनले उद्योग पति ,और कुबेर धनपति

लोगो को आगे आना होगा और हमारे हदय सम्राट युगपुरुष और देशके प्रधान मंत्री मोदीजीको

साथ सहकार देना होगा ताकि हम हमारी गुमाई हुई शान बान और गौरव शाली प्रणाली

बचा शके ,और विष्वको राह दिखा अपनी पहचान करा शके
===प्रहलादभाई प्रजापति ,,१८/९/२०२२
===( गुजरात प्रदेश अदक्ष ,राष्ट्रिया हिन्दू महासभा )