Latest Entries »

ગામ હોય ત્યાં ઉકરડા હોય જેનો નીકાલ જરૂરી
==============
જેડીયુ ના શરદ યાદવજી નવા નામ સાથે નવું ગામ વસાવા નીકળ્યા છે
તો આ ગામમાં ઉકરડા નહિ હોય કે નહિ થાય એની કોઈ ખાતરી ખરી ?
એકલા ઉકરડાનાં ગામ હોય ? કે બધા ઉકરડા મળી ઉકરડાના ગામ વસાવે છે ?
ઉકરડાઓની જમાત વધી ગઈ છે હવે એને દેશી ખાતરમાં ફેરવવાની જરૂર છે

દેશ ને શામૃદ્ધ બનાવવો હોય તો આ કહોવાઈગયેલા ઉકરડાના ખાતરનો ઉપયોગ કરવો નહિ
દેશી પદ્ધતિથી ફરી નવા છાણને ગામ થી દૂર ખેતરોમાં તેને જન્મ સાથે માટીમાં ભેળવી દેવું
ઉકરડાને જન્મ થી જ પેદા થતું અટકાવી દેવું જે થી ખેતરોની ફળદ્રુપતા વધે ને દેશ ને ફાયદો થાય
વાતાવરણ શુદ્ધ થાય બીમારીઓથી બચી જવાય પંચાતિયાઓની પેદાશ પર અંકીશ મૂકી શકાય
=== પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ
રિવાઇઝ ઓન 6/8/2017

જીવું લઇ હું કરું હું કરું ના વહેમ
================
લાગણી વિચારોની એક હોય છે
માણસે માણસે વિચારો એક ક્યાં ?

 

ઈશારા રાખે ઇજારા અકબંધ સમજવામો
બે વ્યક્તિઓના પરીક્ષણો ને સમજવામો

 

પડવા આખડવાનાં કારણો વર્તનમાં છે
કોઠા યુદ્ધનાં શિક્ષણ મળે છે ગર્ભાશયમાં

 

જે , છે , એ, નથી,ને ,નથી, એજ, છે અહીં
આ, સત્ય સરળતાથી નથી સમજાતું અહીં

 

હું કરું હું કરું ના વહેમ બધા સમાયા મારામાં
સમજણ નથી મારામાં થવાનું થયા જ કરે છે
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ
રિવાઇઝ ઓન 5 /4/2017

લોકશાહીની મજાક ની હાટડીઓ
================
બિલાડી ટોપ જેવા ઉગી નીકળ્યા ચુંટણી ટાણે
દૂધના ઉ ભારા જેવા પ્રખર પહેરેદારો પાર્ટી નામે

 

ઠાલાં પોલાં વચનો વહેચાય ને વેચાય પ્રજા કાજે
આભાસી હેતના આ લૂલા વચનો છે વાણી નામે

 

શબ્દ મોહમાં ઓગળી એક વખત આવી જાવ
વોટના વેપારી કોલે મહોર મારી બંધાઈ જાવ

 

વાણીમાં સુખી થયાના આશ્વાસનો લઇ જાવ
પાંચ વર્ષનું અમારે રળવાનું દાન સૌ દઈ જાવ

 

સગાં સામટે ફરી પાચવર્ષનું પેકેજ લઇ જાવ
ભૂખ્યા પેટે મજુરી કરવાનું નૂતરું સૌ લઇ જાવ

 

લોકશાહી એક ને માલિકો અનેક આવી જાવ
વેચાય છે બિચારી, નાં બચાવનામાં લઇ જાવ
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ
રિવાઇઝ ઓન 4 /8/2017

अलगार वादियोंके करीबी रिस्तेदार / सपोर्टर की असली पहचान होने लगी है
==============================
जैसे जैसे आतंकियों का सफाया होता जा रहा है वैसे वैसे उनके करीबी ,उनके सपोर्टर ,और उनको
फंडिंग करने वालो का दिल दहल रहा है और उनकी पहचान होती जा रही है जो लोग उनके पीछे
थे और सायलनतळी उनके जरिए देश को उल्लू बनारहेथे और देश की सिक्योरिटी लेके देश को ही
तोड़नेमे लगे थे वो अब धीरे धीरे बाहर आने लगे है ,अब्दुल्ल्ह फेमिली ,महबूबा फेमिली ,जो कश्मीरी
नेतागिरी करते थे ,और देश के सेक्युलर , खोंग्रेसी ,और खोंग्रेसके मालिक जो ७० सालोसे देश को
उल्लू बनारहे थे और लूट रहेथे ,और देश को खोखला कर रहेथे ,उनकी पहचान होने लगी है उनका
रिस्ता दुबई , इस्लामाबाद और डी कंपनीके साथ जो था वो अब धीरे धीरे खुल रहा है ,जैसे जैसे
आतंकवादियोका खत्मा हो जा येगा तभी तक तो ये लोग पूरीतरह लगे हो गए होंगे और लोगोको
उनकी पहचान हो गई हो होगी ,जो देश को लम्बे समय से बंधक बनाके बैठे थे
===प्रहलादभाई प्रजापति

किसी एक परिवारका देश पर लम्बे समय से कब्जा होनेसे देश की बर्बादी की तवारीख
===================================
=देश को नुक्सान ही हुवा है
=देश का विकास नहीं बल्कि देश को लुटा गया है
=एक टॉफी मुस्लिम तुस्टी कर्ण की नीतिसे देश में विभाजनकी स्तिति पैदा कर दी है
=साजिस के तहत देश में हिंदुओंका स्तर कम हुवा jb की मुस्लिमोंका स्तर बढ़ा है
= देश में दूसरी कई जातियों है जो लागुमटिमे है लेकिन उनको लागुमटिका दर्जा नहीं दिया गया
=देश को तोड़नेके साजिसके तहत गुंडे ,लुटेरे ,डकैत ,और देश द्रोही पैदा किये गए
=जो नीतियों कल्याण कारी के नामसे बनाई गई उसमे साजिसके तहत कुछ जाने माने लोगोको ही
लाभ करवाया गया और उसी तरह आम जनताको मुर्ख बनाया
=सेक्युलरिज़्म की आदमी देश में ज़हर फैलाके हिन्दू मुस्लिम को लड़वाया और मुस्लिम की
तरफदारी करके लोगोमे ज़हर और विघटन की बी लगादिये
= सेक्युलरिज़्म की आड़मे हिंदुओंका पतन ,और सततं धर्म का पतन की और बढ़ावा किया
=देश की मिट्टीके लोग न होनेसे देश की मिट्टीसे जुड़े लोगोका दर्द न समज पाए और गरीबी बधाई
=अपनी मूल संस्कृति भुलाके विदेशी संस्कृति को बढ़ावा किया और मूल संस्कृतिको भुलानेकी हर
तरकीब और योजनाए की
=नकली नाम धारण करके देश को और सारी संसद को मुर्ख बनाया
= देश की नागरिकता न होने पर बी ही देश पे कब्जा जमायाखा जिसकी वजहसे देश बर्बाद हुवा
=देश को टुकडेमे बॉटनेकी हर साजिस रचाई
= देश को लूटके संपत्ति बनाई और विदेशोंमें भी लूट के ले गए
= अभ भी उनका पेट नहीं भरा है ,और लोगोमे भरम फैलाके सत्ता हासिल करनेकी हर साजिस
करते रहे है देश कई जयचंदोका और देश द्रोहियोका सहारा लेके
= ऐयाशी , भोगी और हवस खोर लोग सतामे बढ़ते गए
===प्रहलादभाई प्रजापति

ન્યાયાલયોથી ન્યાય ઘણો દૂર
================
કવિની કલ્પનાની આંટીગુટી થી મોટા ઘૂંચડે
ન્યાયની વિધિ જીવતાને મારે મરેલાને જીવાડે

 

બધુજ સારું હોવુ એવા ભાવની સમજણ ને
મર્યાદાની રેખાનું ગ્યાન યોજનો દૂર ભગાડે

 

હિત અહિતની જુગલબંધી માં ન્યાય દઝાડે
દુનિયાદારીના ખેલમાં ખેલન્દા સત્યને રંજાડે

 

સંસારની આંટીગૂટી ભજવનાર કર્મો આટે પાટે
મત મતાંતરના યુગમાં એક મત અજાણ્યા હાટે

 

હોય જ્યાં એક મત અનાયાસે તરી જાય વૈતરણી
સફરના કાફલે મતે મતે માંતીર્ભીન્દાની ઉજાણી

 

દુનિયાદારીના ખેલમાં ન્યાયાલયોથી ન્યાય ઘણો દૂર
ક્યોક હિમશીલાની ટોચ તો ક્યાંક સમતલે બજે નૂપુર

 

સંધાય કોઇ કારણ, ત્યો સંસાર મૂલવાતો દેખાય
શાન્તી માટે ક્યાંક કોમ્પ્રોમાઇજિ સમજુતી દેખાય

 

સંસાર પોત પોતાની હયાતીમાં ભજવાતો ભણાય
ન્યાયના પૂથ્થકરણમાં ઠોસ પૂરાવે અનીતિ અંકાય
=== પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ
રિવાઇઝ ઓન 30 /7 /2017

વ્યક્તિગત સ્વાર્થ ની ખોંગ્રેસ ની નીતિ,[ ગુજરાતી પ્રજાને રેઢી મૂકી ભાગી ગયા ]
=======================
જ્યારે ગુજરાત પૂર અને બાઢ માં તરબોળ થયુ છે ત્યારે ખોંગ્રેસના ધારા સભ્યો પુરમાં પીડાતી પ્રજાને
છોડી ભાગી ગયા ,અને હોટેલમાં અમન ચમન ઉડાવવા ગુજરાતની બહાર ભાગી ગયા ,જુઓ આ ખોંગ્રેસની નીતિ ,શું તેઓ એટલા બધા ના મર્દ હતા કે તેઓને પોતાના પર ભરોસો નહોતો કે પોતાના પર વિશ્વાસ નહોતો કે જેથી એક માણસને જીતાડવા તેઓને ભાગવાની શરણાગતિ સ્વીકારવી પડી ,અને પ્રજાને રડતી મૂકી અહીં પૂરની પરિસ્થિતિ એટલી નાજુક છે કે બાળકો
દલિતો ,ગરીબો ,ખેડૂતો ,વ્યાપારીઓ ઝુંપડા વાસીઓ આમ દરેક જન કપરી પરિસ્થિતિનો સામનો
કરી રહયા છે અને પ્રજાના ચૂંટાયેલા કહેવાતા સમાજ સેવકો ગુજરાત છોડી ભાગી ગયા ,વાહ
ખોંગ્રેસ અને નહેરુ ખાનદાન તારી નીતિ ,ઇતિયાસ ગવાહ છે કે દેશ ની સામે સમસ્યાઓ જ્યારે
જયારે આવી છે ત્યારે ત્યારે આ નહેરુ કુટુંબના નબીરાઓ દેશ છોડી ભાગી ગયાના પુરાવા છે
અને એજ નીતિનું આજે ગુજરાતમાં પુનરાવર્તન થયું છે દેશમાં એક પરિવાર માટે ખોંગ્રેસીઓ
મરી પરવારે છે તેમ ગુજરાતમાં એક વ્યક્તિને રાજ્ય સભામાં જીતાડવા આ ગુજરાતી ખોંગ્રેસી
સેવકોએ કરી બતાવ્યું છે પ્રજાને રેઢી મૂકી ગુજરાતની બહાર અમન ચમન ઉડાવવા ભાગી ગયા
=== પ્રહલાદભાઈ પ્રજાપતિ

हिन्दु जागो, हिन्दु जागो ,बड्डपन की गलत फेमि में न रहो
===========================
विनय wrote: “देखो अब्दुल तुम राजवीर सिंह (क्षत्रिय) बन कर दलितों (शुद्रो) को नीच साबित करोगे.. वसीम तुम रमेश शर्मा (ब्राह्मण) बन कर दलितों को गालियां दोगे.. और अकरम तुम राकेश चमार (दलित) बन कर मनुवाद और ब्राह्मणों को दलितों और बाबा साहब का दुश्मन बता कर गालिया दोगे.. सलीम तुम मोहन सैनी (वैश्य) बन कर सब की हाँ में हाँ मिलाओगे और जरूरत पड़ने पर तुम मनुवाद को ही गरियाओगे.. समझ गए न तुम लोग..? अब्दुलाह अपने बेटो को समझाता हुआ बोल रहा था.. वसीम: अब्बु उस से होगा क्या..? अब्दुल्लाह: बेटा जैसा कहा है वैसा करो बाकि का काम तुम हिन्दुओं पर छोड़ दो..

નિત્ય ક્રમ

નિત્ય ક્રમ
=============
સવારથી કિરણો ધોધમાર ધસે યથાવત
રાત ભુક્કો થઇ દિવસમાં પીગળે યથાવત

 

સૂરજ નીકળ્યો ફરવા એમ યથાવત
અંધકાર ફીણ જેમ ઓગળે યથાવત

 

પથારી મૂકે એમ ઘરખુણે બેઠી યથાવત
સઘળો માહોલ,ધંધાની ધમાલે યથાવત

 

દહાડે શોરબકોર પડકારે શાંતિ યથાવત
નીત્યક્રમની સવારી ઉપડે રળવા યથાવત

 

સ્વાસની ખલેલ આવન જાવન યથાવત
જન્મ્યા પછીની આ દુનિયાદારી યથાવત

 

વેર વસુલાતે ઈર્શ્યા રહી ઈજાફે યથાવત
હૃદયે શાંતિ ન મળે સતત અશાંતિ યથાવત
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ
રિવાઇઝ ઓન 28 / 7 /2017

आजादी के बाद का कांग्रेस का सबसे बड़ा घोटाला आया सामने, जानकर होश उड़ जाएंगे
=================
कर्ण चौधरी। हम सब जानते है कि देश में कांग्रेस का शासनकाल घोटालों से भरा हुआ रहा। एक घोटाला जो कांग्रेस के 70 सालों के शासन में किए गए घोटालों के बराबर नहीं हो सकता क्योंकि यह उससे भी बहुत बड़ा घोटाला है। इस घोटाले का नाम है- भगवा आतंकवाद। सरकार प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा का वचन देती है लेकिन कांग्रेस ने देश के नागरिकों के साथ क्या किया?
कांग्रेस के शासनकाल में हुई आतंकवादी घटनाओं को भगवा आतंकवाद या हिंदू आतंकवाद के तौर पर सियासतदानों ने जमकर प्रचारित किया। अब जरा इस दौर पर भी गौर करिए।

8 सितंबर 2006 को मालेगांव मे सीरिज ब्लास्ट हुए, जिनमें 37 लोगों की जान गई। इसके बाद 18 फरवरी 2007 को समझौता एक्सप्रेस धमाके हुए, जिनमें 68 लोगों की जान गई। 18 मई 2007 मक्का मस्जिद मक्का मस्जिद के धमाकों में 13 लोगों की मौत हुई थी। इसके बाद 25 अगस्त 2007 हैदराबाद के लुंबिनी पार्क और गोकुल चाट भंडार पर धमाके हुए जिनमें 42 लोगों की जान गई। फिर 11 अक्टूबर 2007 को अजमेर शरीफ की दरगाह पर धमाका हुआ, जिसमें 3 लोगों की मौत हुई। 14 अक्टूबर 2007 को लुधियाना में भी ईद के दिन धमाका हुआ, जिसमें 6 लोगों की मौत हुई। सितंबर 2006 से अक्टूबर 2007 के बीच के इस दौर में कुल 6 आतंकी हमले हुए करीब 169 मासूमों की जानें गईं।
अब जरा गौर कीजिए, इन सभी मामलों को अलग लिखने की वजह तत्कालीन यूपीए सरकार और एनआईए की जांच ने दी। इनमें मालेगांव, समझौता, मक्का मस्जिद और अजमेर शरीफ धमाकों में हिंदू संगठनों का हाथ होने की बात एनआईए की जांच ने बाद में कही। लुधियाना का धमाका पाकिस्तान की मदद से बब्बर खालसा द्वारा किए जाने की बात सामने आई।

29 सितंबर 2008 को मालेगांव में फिर धमाके हुए और इसमें 10 लोग मारे गए। ये भी पाकिस्तान के नापाक आतंकियों के हमलों की फेहरिस्त में एक टाट के पैबंद जैसा दिखाई पड़ता है। इसकी कहानी भी पहले कुछ और थी और बाद में इसमें भी भगवा आतंकवाद की थ्योरी सामने आ गई।
कथित भगवा आतंकवाद के इस दौर में हैदराबाद के धमाकों में शाहिद और बिलाल नाम के दो आतंकी पकड़े गए। जांच में ये बात सामने आई कि हूजी ने इस आतंकी हमले को अंजाम दिया है। पुलिस और एटीएस की जांच ने ये भी साफ कर दिया कि इस मामले के मास्टर माइंड और मक्का मस्जिद के मास्टर माइंड एक ही थे। मालेगांव की जांच में भी सिमी के ही आतंकियों का हाथ होने की बात साफ हो गई थी।

इसी तरह समझौता में अमेरिकी इंटेलीजेंस एजेंसियों ने भी ये साफ कर दिया था कि ये लश्कर का काम है। इस सबके बावजूद मालेगांव, मक्का मस्जिद, अजमेर शरीफ और समझौता धमाकों के इस दौर में एनआईए ने जांच को भगवा संगठनों पर केंद्रित कर दिया, जबकि इससे पहले हुए धमाकों और बाद के धमाकों की मॉडस ऑपरेंडी में भी कोई खास फर्क देखने को नहीं मिलेगा।
हां इधर, एक बात थी कि इन हमलों में मुसलमान ज्यादा मारे गए। इस बात को आधार बनाकर ये घटिया थ्योरी भी सामने रखने की कोशिश की गई कि पाकिस्तान परस्त आतंकी मुस्लिमों के हिमायती हैं और उन्हें नहीं मारेंगे। आतंक का कोई मजहब नहीं होता और इन हमलों में भी मजहब ढूंढना बेमानी है। 26/11 से लेकर देश के हर आतंकी हमले में हर मजहब का हिंदुस्तानी मारा गया।

अब जरा इस महत्‍वपूर्ण प्रश्‍न को समझिए, जाहिर है इस ज्‍वलंत प्रश्‍न के साथ इस दौर को अलग रखकर समझना इसीलिए जरूरी है क्‍योंकि इस दौर में पाकिस्तान परस्त आतंकी शायद छुट्टी पर चले गए थे। जब कथित भगवा आतंकवाद के हमलों की बात तत्कालीन गृहमंत्री पी. चिंदबरम रख रहे थे, तब इस्लामिक आतंकी शांत बैठे थे।
ये बहुत ही अजीब लगता है क्‍योंकि इस दौर के पहले और बाद में किस तरह हमले होते रहे और मासूम मरते रहे के आंकड़े मैं शुरू मॆं ही रख चुका हूं। हमले पहले भी हुए और बाद में भी, लेकिन इस दौर में इंडियन मुजाहिदीन और सिमी शांत हो कर बैठ गए। ऐसा लगता है जैसे वो कथित भगवा आतंकियों को सितंबर 2006 से अक्टूबर 2007 का समय दान में देकर खुद छुट्टी पर चले गए। ज्यादा जांच पड़ताल तो दूर की कौड़ी है लेकिन थोड़ा तारीखों पर नजर दौड़ा ली जाए तो बहुत सी बातों पर से परदा उठ जाए।

अगस्त 2010 में दिल्ली में देश भर के पुलिस प्रमुखों की बैठक में चिदंबरम ने अपने भाषण को पूरी तरह देश में पनपने वाले आतंकवाद पर केंद्रित रखा था। ये वो दौर था, जब एनआईए की जांच इस दिशा में जा रही थी। फिर एक-एक कर वो मामले सामने आए जहां मुस्लिम मारे गए और कथित भगवा आतंकी सामने आए।
दुखद बात ये है कि जिस वक्त वो ये चिंता जता रहे थे उसके बाद से अब तक देश में 21 आतंकी हमले हो चुके हैं और सब पाकिस्तान प्रायोजित ही हैं, लेकिन पाकिस्तान उनके उसी बयान को पकड़े हुए कह रहा आतंकी तो आप के देश में ही पनपनते हैं। इस चिंता को जताने के बाद से लेकर आज तक कोई ऐसा मामला सामने नहीं आया जो एनआईए जांच की इस कहानी को दोहराता पाया जाता। पाकिस्तान प्रायोजित आतंकियों की छुट्टी वाला ये दौर भारत के लिए अंतर्राष्ट्रीय मंच पर भी शर्मसार करने वाला रहा।

कांग्रेस ने हिन्दू धर्म को बदनाम करने के लिए कई हथकंडे अपनाए। कांग्रेस ने आतंकी हमलों को ‘भगवा आतंकवाद’ का नाम दिया। लेकिन बाद में इन सब का खुलासा हुआ और बड़ा घोटाला बाहर आया। कांग्रेस की इस कुचाल की वजह से कई बेगुनाहों को सजा मिली। सुप्रीम कोर्ट को तुरंत सोनिया गांधी को गिरफ्तार करने का आदेश देना चाहिए और चुनाव आयोग को कांग्रेस पार्टी पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए।
(इस लेख के विचार पूर्णत: निजी हैं , एवं saffronswastik.com