Latest Entries »

खोंग्रेसकी गर्भित साजिस खुली हो गई है
=======================
मुस्लिम परसनल लो बोर्ड की स्थापना इंदिरा गाँधी ने की थी उनके सभी कारनामे ऐसे ही थे जो
देश को तोड़नेकी साजिस कही जा शक्ति है और ये खोंग्रेसकी मुस्लिम देश बनानेकी ये गर्भित साजिस है

Advertisements

સેક્યુલર ખોંગ્રેસી યુપીએ સરકારના બજેટ
===========
જો અહીં ગાડામાં પાછળ બેસું તો ઉલાળ
આગળ બેસું તો ધરાળ છે રૈયતનો જુવાળ

મળ્યા બજેટના ઘડનાર પ્રજા ગાડું ખેચનાર
શું હોય એની ચિંતા છે ચિદમ્બરમ્નો ચિતાર

બોજો વધારી દલાલીનાં રસ્તા છે સ્થાપનાર
કાનૂની કવચ ઘડી ખુદ મલાઈ મત્તા જમનાર

મ્હાલવી હવાઈ સફરો ને સેવન સ્ટારે ઉતાર
બીમારી બોલાવી વિદેશે તબિયતની સારવાર

લોકશાહીમાં રાજાશાહી છે કર પર કર લેનાર
ભગવાન બચાવે જનાતાને છે નહેરુ પરિવાર

સ્વ ઘરે જવા આવવાના કર વસુલે વહીવટદાર
તૈયારી શ્વાસોશ્વાસના કરની છે ખોંગ્રેસી સરકાર

લૂંટી લૂંટી વિદેશે જાય જમાપૂંજી દેશ કરી કંગાળ
સેક્યુલર નામે રાહુ ગ્રહ દશાનો દેશ માથે લુંટનાર
=== પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ
રીવાઈજ ઓન 12 /7/ 2018

ખોંગ્રેસ એક પરિવારીક આતંકવાદી સંઘટન
============================
ખોંગ્રેસ એક આતંકવાદી સંઘટન છે હવે તેની બધીજ ગતિવિધિઓની સાજિસ ખુલ્લી પડી ગઈ છે ,દેશ વિરોધી અને હિન્દૂ વિરોધી બધીજ ગર્ભિત સાજીશો ખુલ્લી પડી ગઈ છે અને પુરવાર પણ થી ચુકી છે હવે તેને એક આતંક વાદી સંઘટન જાહેર કરી દેવું જોઈએ અને આ સંઘટન પર
પ્રતિબંધ મૂકી દેવો જોઈએ દેશ અને રાષ્ટ્ર હિટ ખાતર આ સન્ગટન નો દેશ ન નિકાલ કરવો જોઈએ એક પારિવારિક સંઘટન થઇ ચૂક્યું છે

અહીં કાળની વેદનાઓ છે આ સફર ,,,,,,,,,,,,,,,,
============
આ કાળની વેદનાઓએ અશ્રુઓનાં ઍધાણ સમયની
સૂચકતા પામ્યા હોત’તો આ હયાતી આમ રડતી નહિ

 

ઢાંકેલા ભાત સમી આ સફર નાં સ્વાદ પહેલાથી ક્યાં છે ?
ને છતાં,બધું જ નિર્મિત હોય એવું થતું જોઈ રડતી રહી

 

શું કમાલ છે,કોઈ છુપી શક્તિ ની,ધાર્યું કોઈનુંય,ન,થાય,
પલની ખબર ન્હોય વર્ષોના,આયોજને સફર દોડતી રહી

 

આપણી આ સફરનો કેટલા બોદો ને અજુગતો આધાર
સમયાંતરે બદલે વિચાર ને વ્યવ્હારી રસમ પકડતી રહી

 

લાગણીઓની હિમશીલાઓ પીગળે પછી આવે બદલાવ
સમયનું ઝહેર પીવાના આદિ આપણને મૂર્ખતા નડતી રહી

 

આધાર છૂટી ગયા પછીના વસવસે પ્રાયશ્ચિતના ચરણે સફર
અટવાય ફરી એજ ઝેરના પારખે પાછી હયાતી ફરતી રહી
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ

आज़ाद भारतका गुलाम प्रधान मंत्री,,,,,,,,,,,,,,,,, कौन था ?
बाथरम में रेन कोट पहनके स्नान करने वाला ,,,,,,,,गुलाम या गद्दार या देश बेचने वाला ?
[ ६० सालोसे शाशन करता जो थे सेक्युलर वादी और नहेरु वंशज का गुलाम कौन थे ?]
=============================
Bharat Patel shared बिकाऊ मीडिया छोड़ो :- फेसबुक समाचार पड़ो’s photo.
Puppet Minister Mauni hatao, Loh Purush Modi ko PM banao, desh aur sanskruti bachao!
जनहित मे शेअर करे भाइयो किस बात पर गर्व करे…..?? इशारे पे चलने वाले प्रधानमंत्री पर ??? लाखों करोड़ के घोटालों पर…? 85 करोड़ भूखे गरीबों पर…? 62 प्रतिशत कुपोषित इंसानों पर…? या क़र्ज़ से मरते किसानों पर…? किस बात पर गर्व करे…..?? जवानों की सर कटी लाशों पर…? सरकार में बैठे अय्याशों पर….? स्विस बैंकों के राज़ पर…? प्रदर्शनकारियों पर होते लाठीचार्ज पर…? किस बात पर गर्व करे……?? राज करते कुछ परिवारों पर….? उनकी लम्बी इम्पोर्टेड कारों पर….? रोज़ हो रहे बलात्कारों पर…? या भारत विरोधी नारों पर…? किस बात पर गर्व करे……?? महंगे होते आहार पर….? अन्याय की हाहाकार पर….? बढ़ रहे नक्सलवाद पर….? या देश तोड़ते आतंकवाद पर….? किस बात पर गर्व करे…….?? जवानों की खाली बंदूकों पर….? सुरक्षा पर होती चूकों पर….? पेंशन पर मिलते धक्कों पर…..? या IPL के चौकों-छक्कों पर….? किस बात पर गर्व करे……?? किसानों से छिनती ज़मीनों पर….? युवाओं की खिसकती जीनों पर….? संस्कृति पर होते रेलों पर…..? या क्रिकेट-कॉमनवेल थ खेलों पर….? किस बात पर गर्व करे……?? साढ़े 900 के सिलेंडर पर…? दुश्मन के आगे होते सरेंडर पर….? इस झूठी शान पर….? या’इंडियन’होने की पहचान पर….? किस बात पर गर्व करे…..?? किस बात पर गर्व करे…..?
जनहित मे शेअर करे भाइयो
किस बात पर गर्व करे…..??
इशारे पे चलने वाले प्रधानमंत्री पर ???
लाखों करोड़ के घोटालों पर…?
85 करोड़ भूखे गरीबों पर…?
62 प्रतिशत कुपोषित इंसानों पर…?
या क़र्ज़ से मरते किसानों पर…?
किस बात पर गर्व करे…..??
जवानों की सर कटी लाशों पर…?
सरकार में बैठे अय्याशों पर….?
स्विस बैंकों के राज़ पर…?
प्रदर्शनकारियों पर होते लाठीचार्ज पर…?
किस बात पर गर्व करे……??
राज करते कुछ परिवारों पर….?
उनकी लम्बी इम्पोर्टेड कारों पर….?
रोज़ हो रहे बलात्कारों पर…?
या भारत विरोधी नारों पर…?
किस बात पर गर्व करे……??
महंगे होते आहार पर….?
अन्याय की हाहाकार पर….?
बढ़ रहे नक्सलवाद पर….?
या देश तोड़ते आतंकवाद पर….?
किस बात पर गर्व करे…….??
जवानों की खाली बंदूकों पर….?
सुरक्षा पर होती चूकों पर….?
पेंशन पर मिलते धक्कों पर…..?
या IPL के चौकों-छक्कों पर….?
किस बात पर गर्व करे……??
किसानों से छिनती ज़मीनों पर….?
युवाओं की खिसकती जीनों पर….?
संस्कृति पर होते रेलों पर…..?
या क्रिकेट-कॉमनवेल थ खेलों पर….?
किस बात पर गर्व करे……??
साढ़े 900 के सिलेंडर पर…?
दुश्मन के आगे होते सरेंडर पर….?
इस झूठी शान पर….?
या’इंडियन’होने की पहचान पर….?
किस बात पर गर्व करे…..??
किस बात पर गर्व करे…..?
===प्रहलादभाई प्रजापति

दुनिया में अन्धविश्वास और भूत-प्रेत सरीखे फालतू बातों का जन्मदाता भी इस्लाम और उसका प्रतिपादक मुहम्मद ही था..!

आज भले ही हम हिन्दुओं के उदारता या फिर कहें कि.... बेवकूफी का फायदा उठा कर ..... PK या OMG सरीखे फिल्मों में हम हिन्दुओं को.... "अंधविश्वासी" साबित करने का कुत्सित प्रयास किया जा रहा हो....!

लेकिन,

क्या आप जानते हैं कि.... दुनिया में अन्धविश्वास और भूत-प्रेत सरीखे फालतू बातों का जन्मदाता भी इस्लाम और उसका प्रतिपादक मुहम्मद ही था..!

ये जानना इसीलिए जरुरी है... क्योंकि, सेक्यूलर और मुस्लिमों द्वारा बहुत ही सफाई से हमें यह समझाया जाता है कि.... हमारे हिन्दू धर्म में बहुत ज्यादा अन्धविश्वास है...!

जबकि हकीकत इसके बिलकुल ही विपरीत है..... और, दुनिया में मौजूद सारे नौटंकियों और खुराफातों का जड़.... एकमात्र इस्लाम और उसका प्रतिपादक मुहम्मद ही है....!

ऐसा इसीलिए है ... क्योंकि.... इस्लाम का प्रतिपादक मुहम्मद एक लुटेरा और जाहिल किस्म का व्यक्ति था.... जिसके पास ना तो कोई ज्ञान था... ना ही कोई विज्ञान... !

इसीलिए..... हर वो काम.... जिसे मुहम्मद... अपने साथियों को.... ठीक से समझा पाने में असमर्थ होता था..... झट से उस बात को.... अल्लाह नामक काल्पनिक चरित्र ... . अथवा शैतान... और, भूत-प्रेत से जोड़ दिया करता था...... ताकि उस बात कोई सबूत नहीं माँगा जा सके...!

मुहम्मद के जाहिलपने का आलम तो यह था कि.... वो सपने से लेकर कुत्ते,बिल्ली और सांपों तक को..... अल्लाह, शैतान और भूत प्रेतों से जोड़ रखा था...!

ये सब बातें मैं खुद से नहीं कह रहा हूँ.... बल्कि मुहम्मद ने अपनी मूर्खता के कारण ऐसी राज की बातें भी.... अपने कुरान में रख छोड़ी हैं.... ताकि समय आने पर हम जैसे लोग .. उसे पढ़ कर.... आमिर और तथाकथित सेक्यूलरों को इस्लाम का असली आईना दिखा सकें...

ज़रा आप भी कुरान की वो आयतें पढ़ें... और इस्लाम के बारे में अपना सामान्य ज्ञान बढाएँ.....

@@@@ अबू कतदा ने कहा कि.... रसूल मानते थे कि... अच्छे सपने अल्लाह दिखाता है.. और, बुरे सपने शैतान दिखाता है ...बुखारी - जिल्द 9 किताब 87 हदीस ११३

@@@@ सईदुल खुदरी ने कहा कि रसूल ने कहा कि..... अगर तुम बुरे सपने देखो तो समझो कि... वह शैतान की तरफ से हैं ....तो, उसके बारे में किसी को नहीं बताओ .,,,और, शैतान से बचने के लिए अल्लाह की शरण मांगो .....बुखारी - जिल्द 9 किताब 87 हदीस ११४

@@@@ अबू कतदा ने कहा कि रसूल ने कहा अगर तुम्हें बुरा सपना आये तो बायीं तरफ थूक दो ... क्योंकि उस तरफ शैतान रहता है ....बुखारी -जिल्द 9 किताब 87 हदीस ११५

@@@@ रसूल मानते थे कि बुरी नजर ( Evil eye ) सचमुच होती है . जिसके असर से लोग बीमार हो जाते है ....इब्ने माजा- किताब 5 हदीस 3506 और 3507

@@@@ किसी कि बुरी नजर के दुष्प्रभाव को दूर करने के लिए लोग एक बर्तन में पानी में रसूल का बाल डाल देते थे . और वह पानी लोगों को पिला देते थे .लोग मानते थे कि इस टोटके से बीमारी दूर हो जाएगी ....... बुखारी - जिल्द 7 किताब 72 हदीस 784

@@@@ रसूल मानते थे कि अल्लाह लोगों को डराने ले लिए जमीन पर भूकंप भेजता रहता है ...... बुखारी -जिल्द 2 किताब 18 हदीस 167

@@@@ रसूल मानते थे कि फ़रिश्ते काले कुत्तों से इतना डरते है कि यदि किसी के घर में काले कुत्ते का चित्र भी होगा तो , फ़रिश्ते उस घर के अन्दर नहीं जायेंगे ..... बुखारी -जिल्द 7 किताब 72 हदीस 833

@@@@ रसूल को विश्वास था कि जो भी रेशम या ऊन के वस्त्र पहनेगा ... वह बन्दर या सूअर के रूप में बदल जायेगा .... सुन्नन अबू दाऊद- जिल्द 3 किताब 32 हदीस 4028

@@@@ रसूल ने बताया है कि .... अक्सर जिन्न साँपों का रूप धर लेते हैं...और, यदि तुम्हारे घर में कोई भयानक सांप आ जाये और यदि वह तीन दिन तक नहीं काटे तो समझ लो वह मुसलमान जिन्न है .,,, और, उसे जाने दो .
यदि वह काट ले तो वह काफ़िर होगा ... उसे मार डालो ........सही मुस्लिम -किताब 26 हदीस 5558

चूँकि, मुस्लिम मुहम्मद की बातों पर आँख बंद करके विश्वास करते हैं...... इसीलिए उन्होंने मुहम्मद की इन बिना सर-पैर की बेतुकी बातों पर आँख बंद कर विश्वास कर लिया..... और, मुस्लिम जब भारत आये तो..... उन्होंने इन कुरीतियों को भी अपने साथ भारत लेते आये...!

साथ ही.... आज भी .... हर मज़ार और दरगाह पर..... मुस्लिम फ़क़ीर ..... लोगों का भूत और जिन्न उतारते आराम से देखे जा सकते हैं...!

इन प्रमाणों से यह साफ जाहिर है कि..... इस्लाम ने दुनिया में सिर्फ खून खराबा ही नहीं फैलाया है.... बल्कि, अधिकांश कुरीतियाँ भी.... इस्लाम की ही देन है...!

जय महाकाल...!!!

नोट : यह लेख किसी की धार्मिक भावना को आहत करने के लिए नहीं.... बल्कि, सभी लोगों को सभी धर्मों की जानकारी देने के पवित्र उद्देश्य से लिखी गई है...!

आज भले ही हम हिन्दुओं के उदारता या फिर कहें कि…. बेवकूफी का फायदा उठा कर ….. PK या OMG सरीखे फिल्मों में हम हिन्दुओं को…. “अंधविश्वासी” साबित करने का कुत्सित प्रयास किया जा रहा हो….!

लेकिन,

क्या आप जानते हैं कि…. दुनिया में अन्धविश्वास और भूत-प्रेत सरीखे फालतू बातों का जन्मदाता भी इस्लाम और उसका प्रतिपादक मुहम्मद ही था..!

ये जानना इसीलिए जरुरी है… क्योंकि, सेक्यूलर और मुस्लिमों द्वारा बहुत ही सफाई से हमें यह समझाया जाता है कि…. हमारे हिन्दू धर्म में बहुत ज्यादा अन्धविश्वास है…!

जबकि हकीकत इसके बिलकुल ही विपरीत है….. और, दुनिया में मौजूद सारे नौटंकियों और खुराफातों का जड़…. एकमात्र इस्लाम और उसका प्रतिपादक मुहम्मद ही है….!

ऐसा इसीलिए है … क्योंकि…. इस्लाम का प्रतिपादक मुहम्मद एक लुटेरा और जाहिल किस्म का व्यक्ति था…. जिसके पास ना तो कोई ज्ञान था… ना ही कोई विज्ञान… !

इसीलिए….. हर वो काम…. जिसे मुहम्मद… अपने साथियों को…. ठीक से समझा पाने में असमर्थ होता था….. झट से उस बात को…. अल्लाह नामक काल्पनिक चरित्र … . अथवा शैतान… और, भूत-प्रेत से जोड़ दिया करता था…… ताकि उस बात कोई सबूत नहीं माँगा जा सके…!

मुहम्मद के जाहिलपने का आलम तो यह था कि…. वो सपने से लेकर कुत्ते,बिल्ली और सांपों तक को….. अल्लाह, शैतान और भूत प्रेतों से जोड़ रखा था…!

ये सब बातें मैं खुद से नहीं कह रहा हूँ…. बल्कि मुहम्मद ने अपनी मूर्खता के कारण ऐसी राज की बातें भी…. अपने कुरान में रख छोड़ी हैं…. ताकि समय आने पर हम जैसे लोग .. उसे पढ़ कर…. आमिर और तथाकथित सेक्यूलरों को इस्लाम का असली आईना दिखा सकें…

ज़रा आप भी कुरान की वो आयतें पढ़ें… और इस्लाम के बारे में अपना सामान्य ज्ञान बढाएँ…..

@@@@ अबू कतदा ने कहा कि…. रसूल मानते थे कि… अच्छे सपने अल्लाह दिखाता है.. और, बुरे सपने शैतान दिखाता है …बुखारी – जिल्द 9 किताब 87 हदीस ११३

@@@@ सईदुल खुदरी ने कहा कि रसूल ने कहा कि….. अगर तुम बुरे सपने देखो तो समझो कि… वह शैतान की तरफ से हैं ….तो, उसके बारे में किसी को नहीं बताओ .,,,और, शैतान से बचने के लिए अल्लाह की शरण मांगो …..बुखारी – जिल्द 9 किताब 87 हदीस ११४

@@@@ अबू कतदा ने कहा कि रसूल ने कहा अगर तुम्हें बुरा सपना आये तो बायीं तरफ थूक दो … क्योंकि उस तरफ शैतान रहता है ….बुखारी -जिल्द 9 किताब 87 हदीस ११५

@@@@ रसूल मानते थे कि बुरी नजर ( Evil eye ) सचमुच होती है . जिसके असर से लोग बीमार हो जाते है ….इब्ने माजा- किताब 5 हदीस 3506 और 3507

@@@@ किसी कि बुरी नजर के दुष्प्रभाव को दूर करने के लिए लोग एक बर्तन में पानी में रसूल का बाल डाल देते थे . और वह पानी लोगों को पिला देते थे .लोग मानते थे कि इस टोटके से बीमारी दूर हो जाएगी ……. बुखारी – जिल्द 7 किताब 72 हदीस 784

@@@@ रसूल मानते थे कि अल्लाह लोगों को डराने ले लिए जमीन पर भूकंप भेजता रहता है …… बुखारी -जिल्द 2 किताब 18 हदीस 167

@@@@ रसूल मानते थे कि फ़रिश्ते काले कुत्तों से इतना डरते है कि यदि किसी के घर में काले कुत्ते का चित्र भी होगा तो , फ़रिश्ते उस घर के अन्दर नहीं जायेंगे ….. बुखारी -जिल्द 7 किताब 72 हदीस 833

@@@@ रसूल को विश्वास था कि जो भी रेशम या ऊन के वस्त्र पहनेगा … वह बन्दर या सूअर के रूप में बदल जायेगा …. सुन्नन अबू दाऊद- जिल्द 3 किताब 32 हदीस 4028

@@@@ रसूल ने बताया है कि …. अक्सर जिन्न साँपों का रूप धर लेते हैं…और, यदि तुम्हारे घर में कोई भयानक सांप आ जाये और यदि वह तीन दिन तक नहीं काटे तो समझ लो वह मुसलमान जिन्न है .,,, और, उसे जाने दो .
यदि वह काट ले तो वह काफ़िर होगा … उसे मार डालो ……..सही मुस्लिम -किताब 26 हदीस 5558

चूँकि, मुस्लिम मुहम्मद की बातों पर आँख बंद करके विश्वास करते हैं…… इसीलिए उन्होंने मुहम्मद की इन बिना सर-पैर की बेतुकी बातों पर आँख बंद कर विश्वास कर लिया….. और, मुस्लिम जब भारत आये तो….. उन्होंने इन कुरीतियों को भी अपने साथ भारत लेते आये…!

साथ ही…. आज भी …. हर मज़ार और दरगाह पर….. मुस्लिम फ़क़ीर ….. लोगों का भूत और जिन्न उतारते आराम से देखे जा सकते हैं…!

इन प्रमाणों से यह साफ जाहिर है कि….. इस्लाम ने दुनिया में सिर्फ खून खराबा ही नहीं फैलाया है…. बल्कि, अधिकांश कुरीतियाँ भी…. इस्लाम की ही देन है…!

जय महाकाल…!!!

नोट : यह लेख किसी की धार्मिक भावना को आहत करने के लिए नहीं…. बल्कि, सभी लोगों को सभी धर्मों की जानकारी देने के पवित्र उद्देश्य से लिखी गई है…!

Rahul Raghuwanshi ✊🚩
मुहम्मद साहब ने कुरान कैसी-कैसी गप्पें हांकी हैं…..
1. रसूल अपने कपड़ों में कुछ बरसाती बादलों को रख लेते थे … और, फिर
जब चाहते थे… उन बादलों से इतनी बरसात कर देते थे कि….जिस से मक्का
शहर की गलियां भर जाती थी——— अबू दाऊद- जिल्द 3 किताब 31 हदीस
५०८१
2. अनस ने कहा कि रसूल को रास्ते में एक खजूर का पेड़ मिला …..जो दर्द
से इस तरह कराह रहा था , जैसे गर्भवती ऊंटनी कराहती है .और, जब रसूल ने
उस पेड़ पर हाथ फिराया तो उसका दर्द ख़त्म हो गया और पेड़ शांत हो*
गया—बुखारी -जिल्द 4 किताब 56 हदीस 783 , 784 और 785
3- अनस ने कहा कि… एक बार जब रास्ते में कहीं पानी नहीं था .. और,
जिहादी प्यासे मर रहे थे तो रसूल ने अपनी उँगलियों से इतना पानी निकाल
दिया कि जिस से 1500 लोगों की प्यास बुझ गयी — बुखारी -जिल्द 4 किताब
56 हदीस 776
4– एक बार जब रसूल मीना की पहाड़ी पर खड़े हुए थे तो उन्होंने अपनी
उंगली से चाँद के दो टुकडे कर दिए .एक टुकड़ा पहाड़ी की एक तरफ गिरा और
दूसरा टुकड़ा दूसरी तरफ गिर गया ——-मुस्लिम – किताब 39 हदीस 6725 ,
6726 , और 6728
लगता है कि मुहम्मद साहब फुरसत के समय मूर्ख जिहादियों पर अपना प्रभाव
डालने के लिए ऐसे ही बेतुकी गप्पें मारते रहते थे ….
अन्यथा ऐसी असंभव और मूर्खतापूर्ण बातों पर केवल वही विश्वास कर सकता है
जिसके अक्ल का दिवाला निकल गया हो .
क्योंकि इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका के अनुसार चन्द्रमा का आकार पृथ्वी
से एक तिहाई से भी कम है .(The Moon] is less than one-third the size of
Earth (radius about 1,738 कि मी )
फिर भी यदि आधा चन्द्रमा टूट कर अरब पर गिर गया होता तो मुहम्मद और
मक्का मदीना समेत कई अरब देश मिट गए होते और आज दुनिया को ये दुर्दिन
नहीं देखना होता.
जिस इस्लाम का प्रतिपादक मुहम्मद ही इतना बड़ा गप्पी और डींग हांकू हो
*उसके अनुयायी कैसे होंगे….?????
कुरान पढ़ कर मुझे तो लगता है कि अगर आप भी अपना काम धाम छोड़ कर लूटमार!!
और बलात्कार करने लगो जम कर डींगें हांकना शुरू कर दो तो शायद आप भी….
मुस्लिमों के लिए अल्लाह के दूत….और रसूल….बन सकते हो.

વોર્ડ પ્રેસ પર મારા બ્લોગમાં આવેલ ટિપ્પણી જે જયચંદ ને શૂરવીર અને પ્રતાપી રાજા ગણાવે છે તેના જવાબ રૂપે , મારો પ્રત્યુત્તર
===========================
જયચંદ ને જો વેર લેવુંજ હતું તો એ મુસ્લિમ ને કેમ પસંદ કર્યો તે કોઈ હિન્દૂ રાજા પાસે જય શકતો હતો વિદેશી પાસે કેમ ગયો ? અને પોતાના ઘરને ઉજાળવા માટે બહારના લોકોને મદદે બોલાવ્યા તે હકીકત જ જયચંદ છે એમ પુરવાર થાય છે જયચંદ = ગદ્દાર જેની હિસ્ટોરી ગમે તેટલી જોરદાર હોય તો પણ એ ગદ્દાર જ છે જે પોતાના દેશ ને વેચી ને દુશ્મન ને ઘરમાં પેસાડી ને દેશ વેચવામાં મદદગાર થાય છે એવું કામ જયચંદ જ કરી શકે જે ગદ્દાર છે
===પ્રહલાદભાઈ પ્રજાપતિ

સેક્યુલરી શાશનમાં લોહી સાચી ઓળખ ગુમાવી બેઠું નથી ?
મુસ્લિમ તુષ્ટિકરણની નીતિ અને વામ પંથી ઓએ હિન્દૂ સંસ્કૃતિ પર આક્રમણ કર્યું નથી ?
===================
એવું નથી લાગતું કે આપણે લોક શાહીમાં જીવી રહ્યા છીએકે રાજાશાહી માં સામંત શાહીમાં કે બંધન્શાહીમાં કે આતકવાદ શાહીમાં કાઈ ખબર જ પડે નહિ
સર્વે આગેવાનો ને કોઈ ચોક્કસ પોતાનો એજન્ડા છે જે ગુપ્ત રાખે છે જેવી તક મળી કે ગુપ્ત એજન્ડાનો અમલ શરુ જ્યાં સ્વાર્થ નર્યો સ્વાર્થ જવલ્લેજ કોઈ
નેતા એવો હશે કે પહેલા રાષ્ટ્ર ,પહેલા રાષ્ટ્ર ધર્મ ,પ્રજા ધર્મ પછી બીજા ધર્મ અથવા કાર્ય અત્યારે તો બા વારસા શાહી ચાલી રહી છે , દેશ હીનતની કોઈ શાહી ચાલતી હોય તેવું લાગતી નથી 60 વર્ષ સુધી આવી નીતિઓ ઠોકી બેસાડવાની નીતિ ચાલી રહી છે અને લૂટ નીતિ ચાલી રહી છે દેશને મુસ્લિમ તુષ્ટિકરણની નીતિ અને વામ પંથી ઓએ હિન્દૂ સંસ્કૃતિ પર આક્રમણ કર્યું છે સેક્યુલર નામે દેશમાં અરાજકતા ફેલાવી છે અને કોઈ એક જાતિના તુષ્ટિકરણના એજન્ડાએ
દેશ ને જાતિ ધર્મ ના ભેદ ભાવમાં વહેંચી દીધો છે કેટલાલ બુદ્ધિ જીવીઓ પણ પોતાના સ્વાર્થી પણાને લીધે અને ખુદના હિતને રખવાળી માટે પોતાની બુધ્ધી ગીરો મૂકી છે અને તાટસ્થ્ય કે
સાચી વાત કહી શકતા નથી આવી પરીસ્થિમા સમાજે ઘોર અન્યાયનો સામનો કરવો પડે છે
રાજા પછી એના વારસદાર આવે, કોઈ એક વાત કોઈ એક ધર્મને લાગુ પડતી હોય તો વિરોધ કરે અને તક સાધુઓ તેમાં સાથ ને સહકાર આપે છે અહીં જયચંદોની ગદ્દારોની કોઈ કંઈ નથી

સાચો ન્યાય તો હજારો માઈલ દૂર હોય તકસાધુઓ એક શાહ્સ્ત્ર મળતું હોયછે સત્તા પ્રાપ્ત કરવાનું ,તેને કોઈ સત્ય કે અસત્ય ની પડીજ હોતી નથી તેને તો માત્ર વિરોધ કરીને તેનો સ્વાર્થ તક સાધવાની પડી હોય છે , તેન નહિ કે ધર્મની ,પ્રજાની કે દેશની કે કોઈ નાત જાતની તેને તો માત્ર્ન્ર માત્ર તક સાધી સત્તાધારીને કેમ કરીને પછાડવો એજ એની નીતિ હોય છે ધાર્મિક સંગઠનોને પણ કોઈ સત્ય ની પડી નથી તેને તો માત્ર તેન પક્ષ ની કે ધરમ માત્ર ફેવર કરે છે સત્ય તો ક્યાંક છુપાવી દીધું હોય છે ચોર લુટારાઓની જેમ તક મળે લુત્વાની ફીરાક્માજ હોય છે સેવાને નામેઅત્યારે પણ આપણી લોક શાહી માં બાપ જાય પછી બેટો આવે
હવે તમે કહો , કે આ લોક શાહી કે લોકશાહી માં રાજા શાહી ?ધન્ય છે આપણા ખોન્ગ્રેસી નેતાઓને લોકશાહી લઇ આવ્યા પણ રાજાશાહી કેવી ઘુસાડી દીધી ?લોક શાહી માં રાજાશાહી છે કે નહિ એક સવાલ ?અરે ઘણા રાજ્યમાં તો આખું કુટુંબ રજાશાશી ભોવે છે
આ રાજાશાહી નું ભૂત એવું તો લોહીમાં ભળી ગયું છે લોહી ને લોહી કહેવા કહેવામો ય ક્ષોભ અનુભવાય છેલોહી તેની સાચી ઓળખ ગુમાવી બેઠું છે ?

નહેરુ ખાનદાને દેશને ગુલામ પાંગળો બનાવવાની અને લૂંટની ગર્ભિત સાજિસ ખુલ્લી પડી ગઈ છે આ દેશ ની સનાતન સંસ્કૃતિના વિનાશની ગર્ભિત સાજિસનો ભાંડો ફૂટી ગયો છે લોકો સમજતા થયા છે અને ઇસ્લામી વામપંથી આક્રમણ ને સમજતા થયા છે

આ દેશને આશાનું કિરણ સમાન એક મોદીજીનું પ્રાપ્ત થયું છે જેઓને આ દેશ ની ગરીબી
ન્યાય વાવસ્થા સાચો પારદાર્શિ વવહીવટ અને સૌનો સાથ સૌનો વિકાસ નામે દરેક દેશવાસીના વિકાસની દિશા બતાવી છે
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ

સેક્યુલર નામે ભૂત ગયું ને પલીત પેઠું
===============
પ્રજાનું ભલું કરવાને, સુખી જોવા બાપુએ બલિદાન આપ્યું
છે ભવિષ્ય એવું ને એવુજ ધુંધળું જ્યા ભૂત ગયું પલીત પેઠું

 

ગોંધી નામે ગોંધીઓએ તેમની મશ્કરી કરી છે સાજિસ રચી
રાજ રમતે નિજ સ્વાર્થની બાજી ગોઠવી ભૂત ગયું પલીત પેઠું

 

સેવા નામે મેવા વહીવટે હોય વાળું બે આપી બાવીસ લેવા
એવા રાજકર્તાઓ દેશનું કાઢશે સુવાળું ભૂત ગયું પલીત પેઠું

 

સ્વાર્થના સૌ પર્યાય લૈ ઘુસ્યા આપણા ઘરમાં છે વિદેશીઓ
જાતિધર્મે નેતાગીરી,ભ્રષ્ટાચારી ભાવમાં ભૂત ગયું પલીત પેઠું

 

ભગવાન બચાવે,સૂકા ભેગું લીલું બળે ગુલામી લોહીમાં ભળી
નિશાની અણસાર કુદરતી સ્વાર્થી ગળે ભૂત ગયું પલીત પેઠું

 

લાગણીના લય આલાપે દૂર ઉભા મરજીવા થવાના કોડે ફરે
ખાધા વિના ભૂખ ન મટે સનાતન સત્ય ભૂત ગયું પલીત પેઠું
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ