Latest Entries »

યુનિટી છે રામબાણ બચાવવા ને સંસ્કૃતિ
===============
અજ્ઞાન છીએ આપણે દૂર દૂરની હકીકતથી
વર્ષો થયા હિંદુઓને આવે અફગાનિસ્તાનથી

હજીએ પગરણ તો ચાલુજ છે ખસતા જવાનું
છૂરી સામે શાંત અબોલ પશુઓના ભાવથી

ઇતિયાસ ગવાહ છે બરસી ભાલે જે લડયા
નમ્યા ડકૈત લુટેરા રાણા પ્રતાપ શિવાજીથી

હજીએ સમય છે સનાતનીઓના બચાવનો
ટૂંકા સ્વાર્થ ત્યજી સૌ ભેગા મળે જો મહારથી

હિન્દૂ મળે હિતથી અંધશ્રદ્ધા ત્યજી દ્વારથી
યુનિટી છે રામબાણ બચાવવા ને સંસ્કૃતિ
11 /10 /2017

 

Advertisements

શંકાની શક્યતાની પેલે પાર
================
પડઘાને કટોરે લઇ બોટલમાં ભરી સંગીતી શિરપે પી શકાય ?
વાદળ છાયી હવાને વાતાવરણ થી અલગ કરી ભંડારી શકાય ?

 

ઠેકડા ભરતા તડકા છાંયડાને બાનમાં રાખી સંતાડી શકાય ?
અજવાળાં અંધારાં ની ચીસ સાંભળી મોભે ટહુકારી શકાય ?

 

કોરા ભીના વિચારોને આંખમાં ઓજી મછળી રોઈ શકાય ?
સમયનું ચિત્ર ભીંતે ચીતરી તેની વંશાવલી આલેખી શકાય ?

 

મૌનને ભાષામાં ફેરવી લેખાનું વાદમાં પુસ્તકે આલોંચી શકાય ?
વિચારોના તર્ક વિતર્કની સીમા સબંધો જાણી ઘોડે સવારી શકાય ?

 

અગ્નિ ત્રાજવે તોલી વજન કરી લંબાઈ પહોળાઈ કદે માપી શકાય ?
અવાજને નરી આંખેં જોઈ પકડી શળ પાડી શૉકેસે ગોઠવી શકાય ?
===પ્રહેલાદભાઈ પ્રજાપતિ
રિવાઇઝ ઓન 11 ./ 10 ./ 2017

आतंकी की इजारदारी
=============
रोटीमे नमक थोड़ा ज्यादा हो गया है
सत्यको पचाना थोड़ा भारी हो गया है

 

असत्यका आशियाना लोगोपे सवार हो गया है
मुर्खता अज्ञानता बेबसी लोगो पे सवार हो गई है

 

समय समय पर ईष्वरीयताने ही मार खाया है
रावण और कंस ने ही मलाई मलाई खाया है

 

भगतसिंघ राजगुरु आज़ाद बोझ ने जान क़ुरबाकि
नहेरु गाँधी जैसे नौटंकी बजाने गद्दी हाथ कर ली

 

वही वंसज है पप्पू जो पुर्खोकी टोपी पहन ली
बिना उद्योगकी कमाईसे देशकी संपत्ति लूट ली

 

एक लुटेरा अधिक लुटेरेओको ले कर था आया
बेगड़ा तैमूर घोरी मुगल सोनेकी चिड़िया खाया

 

ये वही वंसज है जो बहुरूपी नाम धरी नाग है
पेट नहीं भरा किया हाड़पिंजर लहू बून्द प्यासा है

 

जयचंदो की जमात लुटेरोकि सौगात सेक्युलर शाही
इकठ्ठी हुई फिरसे वामपंथी नक्षली इस्लामी आतंकी
===प्रहलादभाई प्रजापति
११ /१० /२०१७

 

 

 

चपातिमे नमक थोड़ा ज्यादा हो गया है
सत्यको पचाना थोड़ा भारी हो गया है

असत्यका आशियाना लोगोपे सवार हो गया है
मुर्खता अज्ञानता बेबसी लोगो पे सवार हो गई है

 

हमेशाकी तरह ईश्वर यता ने ही मार खाया है

 

हिन्दुस्तानमें हिन्दुत्वं को ख़तम करनेकी साजिस न्यायालसे शुरुआत होती है

न्यायपालिकाकी क्षमतामे ,प्रभुतामे मान मर्यादामे वृद्धि करे
==================
कौम जाती धर्म,त्यौहार ,परम्परा ओ के खिलाफ अपना चुकादा या एकतरफा विवादित हुक्म
करके न्याय पालिका अपना प्रभत्व में कोई इजाफा नहीं करती बल्कि समाजमे ध्रुवी कर्ण की
निति अख्त्यार करके समाजकी शांति को खलेल पहुँचाती है ये विघटन कारी नीतिसे देशका या समाजका कोई भला नहीं होता देश में बुद्धिजीवी लोग आगे आये और ऐसी विचार धाराको खत्म करे
===प्रहलादभाई प्रजापति

दीपावलीमें पटाके बंद
============
वामपंथी सुप्रीम कोर्टकी हिंदुत्व को ख़तम करनेकी सोची सामजी वाम पंथी सेक्युलरी साजिस

बाकि सब है मानवनिर्मित, एकमात्र सनातन धर्म है यूनिवर्सल, इसलिए गर्व से कहिये “हम हिन्दू है”

1180

इस्लाम का बायोडाटा
 
इस्लाम धर्म के संस्थापक – मोहम्मद 
मोहम्मद का जन्म 570 ई0 में मक्का में हुआ था।
मोहम्मद के पिता का नाम अब्दुल व माता का नाम अमीना था
 
24 सितम्बर 622ई0 को इस्लाम धर्म दुनिया में आया ।।
मोहम्मद की बेटी का नाम फातिमा व दामाद का नाम अली
इस्लाम दो समूह में बटा है शिया व सुन्नी ।
 
शिया अली को मानते है व सुन्नी मोहम्मद को।
हजरत मोहम्मद की मृत्यु 8 जून 632ई0 में हुयी ।।
ये हुयी पूरी जानकारी इस्लाम
 
अब कोई माई का लाल ये बताये की हिन्दू धर्म कब बना
अगर किसी ने दिखा दिया सनातन धर्म की दिनांक सन् कब स्थापित हुआ
अगर किसी ने दिखा दिया से 10000 नगद इनाम।
 
नोट : दुनिया का सबसे पहला मुस्लिम भी “अली” को माना गया है, मुहम्मद के माता पिता स्वयं मुस्लिम नहीं थे 
 
कोई  मोहम्मद को पैगम्बर नहीं मानता था, एक दिन स्वयं मोहम्मद ने बताया की वो अल्लाह का दूत यानि पैगम्बर है, पहला शख्स जिसने मुहम्मद की बात पर भरोसा किया वो था 10 साल का अली 
और अली ने मोहम्मद को पैगम्बर मानते हुए इस्लाम अपनाया, अली पहला मुस्लिम था धरती पर 
 
• जीसस से पहले कोई ईसाई नहीं था ।
• मुहम्मद से पहले कोई मुसलमान नहीं था।
 
• बुद्घ से पहले कोई बुद्धिस्ट नहीं था ।
• क्लार मार्क्स से पहले कोई वामपंथी नहीं था ।
 
लेकिन :–
 
कृष्ण से पहले ।
राम से पहले ।
 
जमद्गनि से पहले ।
अत्री से पहले ।
 
अगस्त्य से पहले ।
पतञ्जलि से पहले ।
 
कणाद से पहले ।
याज्ञवलक्य से पहले ।
 
सभी सनातन वैदिक धर्मी थे ।
 
क्योंकि एक व्यक्ति विशेष के द्वारा तो पंथ, सम्प्रदाय, रिलिजन आदि ही चल सकते है। धर्म किसी व्यक्ति विशेष द्वारा नहीं चला करता । 
दुनिया में एकमात्र सनातन हिन्दू धर्म ही है जो यूनिवर्सल है, बाकि सब मानवनिर्मित 
इसलिए गर्व से कहिये हम हिन्दू है 
Source: http://www.dainikbharat.net/2017/06/db_956.html

खोंग्रेसके देश द्रोही करतूत
=================
જયેન્દ્ર ઓઝા देश के दो टुकड़े कर दिए गये, मगर कही से कोई आवाज नहीं आई??😥
आधा कश्मीर चला गया कोई शोर नहीं??😥
तिब्बत चला गया कही कोई विद्रोह नहीं हुआ??😥

#आरक्षण, #एमरजेंसी, #ताशकंद, #शिमला, #सिंधु जैसे घाव दिए गये मगर किसी ने उफ्फ नहीं की ??😨

#2G_स्पेक्ट्रम, #कोयला, #CWG, #ऑगस्टा_वेस्टलैंड, #बोफोर्स जैसे कलंक लगे मगर किसी ने चूँ नहीं की??😢

#वीटो_पावर_चीन_को_दे_आये अपने #रंगीले_चच्चा_ने, कही ट्रेन नहीं रोकी!

लाल बहादुर जैसा लाल खो दिया किसी ने मोमबत्ती जलाकर सीबीआई जाँच की मांग नहीं की??😨😤

#माधवराज, #राजेश_पाईलेट, #प्रमोद_महाजन जैसे नेता मार दिए, कोई फर्क नहीं??🤔

परन्तू ,
#जैसे_ही_गौ_मांस_बंद_किया_प्रलय_आ_गया!!

जैसे ही #राष्ट्रगान_अनिवार्य किया चींख पड़े,

#वंदे_मातरम्, #भारत_माता_की_जय बोलने को कहा तो #जीभ_सिल_गई!!😞

#नोटबंदी, #GST पर #तांडव_करने_लगे,

आधार को #निराधार करने की होड़ मच गई,

अपने ही देश में शरणार्थी बने कश्मीर के पंडितो पर किसी को दर्द नहीं हुआ,
#रोहिंग्या_मुसलमानो_के_लिये_दर्द_फूट_रहा_हैं।

किसी ने सच ही कहा था :-
#देश_को_डस_लिया_ज़हरीले_नागो_ने,
#घर_को_लगा_दी_आग_घर_के_चिरागों_ने।

#अभी_कुछ_लोग_पढ़ते_ही_भौकना_शुरू_कर_देंगे।
साभार।

છે , છે , અને નથી

છે , છે , અને નથી
=============
કરું કઈ પણ ઉચ્ચાર્યા વિનાનો આલાપ
આપણા હોવા ન હોવાનો વાર્તાલાપ

 

એષણા ભાન ગુમાવે લઇ કારણ વિલાપ
આયના પાછળના ચહેરા સંગરે જવાબ

 

ટેકા વગરના મ્હેલે મનસૂબા કરે સ્નાન
કર્મો કથળે જ્યા શ્વાસ વિનાના વિશ્વાસ

 

ઝાઝવામાં હોત જો તરસ છીપતી તરજ ?
સંગીતને સાધનાની ન ગરજ ન લયને આલાપ

 

ઋતુચક્ર ની દિશાઓને રસ્તાઓના છે માપ
સમયના પરિવારને ક્ષણ દિવસ રાત અમાપ
===પ્રહલાદભાઈ પ્રજાપતિ
રિવાઇઝ ઓન 8 / 18 2017